129 बच्चों की अकाल मृत्यु

तीव्र वायरल इंफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के प्रकोप से रविवार प्रातः तक मतीतकों कि सँख्या बिहार में 167 हो गई है।मुज़फ़्फ़रपुर बिहार,इस संक्रमण बीमारी का सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र है।मुज़फ़्फ़रपुर जिले में इस बीमारी से 129 बच्चों की अकाल मृत्यु हुई है।

हैरानी की बात है,कि जिस मुज़फ़्फ़रपुर शहर को स्मार्ट सिटी का दर्ज़ा जबर्दस्ती दिलाया गया,वहाँ का नगर निगम और स्थानीय प्रशासन स्वच्छता को लेकर कितना गम्भीर है,उसकी एक बानगी इस शहर के सरैयागंज,जवाहर रोड और छोटी कल्याणी क्षेत्र की कुछ तस्वीरों में दिखाई दे रही है।मोतीझील और कल्याणी क्षेत्रों का हाल तो बेहाल है।आधे घण्टे की बारिश के पश्चात नालियों का पानी सड़कों पर बहने लगता है।पानी निकासी की कोई भी संभावना नगर निगम आज तक नहीं ढूंढ पाया।नालियाँ बारहों महीने गन्दगी से भरी उफनती रहती हैं।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुज़फ़्फ़रपुर को स्मार्ट सिटी की सूची में शामिल तो करवा लिया,लेकिन इस शहर की सड़कों और स्वच्छता पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया।वे अपना अलग राग अलाप रहे हैं,…बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिया जाए!!यह माँग वैसी ही है,जैसे काम तो गड्ढा खोदने का कर रहे हैं,लेक़िन नाम अपना करोड़पति रखने की कह रहे हैं!!…मुज़फ़्फ़रपुर के मच्छर पूरे बिहार में दशकों से प्रसिद्ध रहे हैं।ऐसे में यह गन्दगी भरा शहर भले ही स्मार्ट सिटी की सूची में शामिल करवा लिया गया हो,किंतु यह हमेशा की तरह आज भी बीमारियों का जन्मदाता है।

मुज़फ़्फ़रपुर,बिहार से…राकेश झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here