छाता के सहारे स्कूल में पढ़ाई..

उत्कृष्ट विद्यालय मवई का टपक रहा भवन, मरम्मत में ठेकेदार ने की लापरवाही 

जिला मुख्यालय से 100 किलोमीटर दूर मवई के उत्कृष्ट विद्यालय स्कूल भवन का छत टपक रहा है। जिससे सभी कक्षाओं में पानी भर रहा है। यहां छाता के सहारे बच्चें बच्चे पढ़ाई कर रहे है। कक्षा में छाता लगाकर बच्चे बैठ रहे है। अभी हाल ही में भवन की मरम्मत कराई गई है लेकिन ठेकेदार के द्वारा किये गये घटिया कार्य के कारण समस्या बन गई है। बारिश में बच्चो की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। 
जानकारी के मुताबिक शासकीय उत्कृष्ट उमावि मवई का भवन छत टपकने लगा है, स्कूल में 11 कक्ष है। जिसमें 10 कक्षों पानी भर रहा है। यहां लायब्रेरी, प्राचार्य कक्ष और स्टाफ रूम मे भी पानी भरा है। स्कूल के कक्षो में पानी टपकने के कारण छात्र-छात्राओं को छाता लगाकर बैठना पढ़ रहा है। विद्यार्थियों की पुस्तक खराब हो रही है। कक्षा में छात्रो को बैठने के लिए जगह नही हेाने के कारण पढ़ाई प्रभावित हो रही है। हाई-हायर सेकेंडरी बोर्ड परीक्षा की पूरक परीक्षा और भोज विव की परीक्षा होने के कारण यहां एक कमरे में दो-दो कक्षाओं के विद्यार्थियो को बैठाया जा रहा है। 
मरम्मत में लापरवाही:
स्कूल भवन 20 साल पुराना होने के कारण दो माह पहले  मरम्मत कराई गई है। लेंटर में काम किया गया है। दीवालो की छपाई कराई गई है। लेकिन ठेकेदार ने घटिया कार्य किया है। ठेकेदार की लापरवाही के कारण स्कूली बच्चो को समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लाखों खर्च होने के बाद भी बच्चो को पढ़ाई के लिए छत नही मिल पा रही है। जिससे विद्यार्थियो की पढ़ाई चौपट हो गई है। 
लायब्रेरी की पुस्तक खराब:
लायब्रेरी में भी पानी भर गया है। यहां आधी पुस्तक गीली होकर खराब हो रही है लेकिन कहीं और पुस्तक रखने के लिए व्यवस्था नही है। जिससे पुस्तकें पढऩे लायक नही रह गई है। यहां के विद्यार्थियो के लिए अध्ययन के लिए बनाई गई लायबे्ररी का उपयोग विद्यार्थी नही कर पा रहे है। बारिश में पुस्तके खराब होने के बाद विद्यार्थियों को लायब्रेरी का लाभ नही मिलेगा। स्कूल का एक कम्प्यूटर भी खराब हो चुका है। 
बरामदे में बैठ रहा स्टाफ:
बताया गया है कि प्राचार्य कक्ष और स्टाफ रूम में पानी भर जाने के बाद स्टाफ को बैठने के लिए स्कूल में जगह नही है। जिससे बरामदे में स्टाफ को बैठना पड़ रहा है। यहां अव्यवस्था बनी हुई है। बरामदे में स्टाफ के बैठने के कारण निकलने तक के लिए परेशानी है। लेकिन विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत से हुई घटिया मरम्मत की शिकायत तक नहंी कर पा रहे है। 
300 विद्यार्थियो की मुसीबत:
उत्कृष्ट विद्यालय मवई में 315 विद्यार्थियो के एडमीशन हो चुके है। जिसमें कक्षा 9 में 70, कक्षा 10 में 70, कक्षा 12 में 70, कक्षा 11 में 70 और कक्षा 12 में 105 विद्यार्थी दर्ज हो चुके है। यहां अभी एडमीशन चल रहा है। 300 से अधिक विद्यार्थी स्कूल अध्ययन के लिए आ रहे है। जिन्हे छाते के नीचे अध्ययन करना पड़ रहा है। 


इनका कहना है 
भवन टपक रहा है, भोज विवि और बोर्ड पूरक परीक्षा होने के कारण एक कमरे में दो-दो कक्षाएं लगा रहे है, विद्यार्थी छाता लगाकर अध्ययन कर रहे है, अध्यापन में परेशानी है, ठेकेदार ने अभी दो माह पहले मरम्मत की है लेकिन कोई फायदा नही है। 
माखन सिंह चौहान, प्राचार्य
बारिश शुरू होने के बाद छत टपक रही है, कक्षा मेे बैठने तक के लिए जगह नही होने के कारण पढ़ाई प्रभावित हो रही है। मुश्किल से कक्षा में अध्ययन कर पा रहे है। 
महेश्वरी यादव, कक्षा बारहवी
छाता लेकर आ रहे है, जिससे कक्षा में बैठ सके, छाता लाकर अध्ययन कर रहे है, कक्षा में किताब पकडे की छाता समझ नही आता है, बहुत परेशानी है। 
राधिका मरावी, कक्षा बारहवी
कक्षा में पानी टपकने की शिकायत किससे करें, जब शिक्षक खुद परेशान है, जैसी की व्यवस्था है, आकर पढऩा पढ़ रहा है, स्कूल नही आयेगे तो कोर्स पीछे हो जाएगा। 
राजेन्द्र धुर्वे कक्षा बारहवी 
पूरे स्कूल में ही पानी भरा है, कही भी बैठने के लिए जगह नही है, स्कूल में पढ़ाई करना मुश्किल है। लेकिन किसी का भी ध्यान नही है। 
हेमंत मरावी कक्षा ग्यारहवीं 
स्कूल की मरम्मत किसने और कितनी लागत से हुई है इसकी जानकारी नही है, स्कूल का निरीक्षण इंजीनियर से कराकर व्यवस्था बनाई जाएगी। 
विजय तेकाम, सहायक आयुक्त जनजाति कार्य विभाग 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here