पोषण पुनर्वास केंद्र मंडला में मनाया गया राष्ट्रीय पोषण माह

जिला चिकित्सालय के पोषण पुनर्वास केंद्र में मनाया गया राष्ट्रीय पोषण माह जिसके अंतर्गत 6 माह से ऊपर के बच्चों को ऊपरी आहार के बारे में बताया गया साथ ही ऊपरी आहार में बच्चों को घर से बने हुए कौन-कौन से भोज्य पदार्थ शामिल कर सकते हैं इसकी प्रदर्शनी भी लगाई गई परिजनों को बताया गया कि जैसे ही आपका बच्चा 180 दिन पूरे करता है तो उसकी शरीर में पोषक तत्वों की आवश्यकता बढ़ जाती है जो कि मां के दूध से पूरी नहीं हो सकती बच्चों की वृद्धि एवं विकास के लिए मां के दूध के साथ संपूरक आहार की शुरुआत करना बहुत जरूरी है बाजार में उपलब्ध सेरेलैक बच्चों को नहीं देना है नाही कोई डिब्बाबंद अन्य भोज्य पदार्थ किस प्रकार से आप घर में उपलब्ध अनाजों से सरलतम विधि द्वारा सेरेलैक पोषण युक्त भोज्य बना सकते हैं इसकी विधि प्रदर्शन द्वारा परिजनों को समझाया गया ,साथ ही कार्यक्रम में उपस्थित डॉ जेपी चीचम के द्वारा मरीज के परिजनों को यह भी बताया गया पोषण युक्त भोजन के साथ साफ-सफाई भी अत्यंत आवश्यक है जिसके अंतर्गत हैंड वॉशिंग स्टेप साथ ही खुले में शौच करने के लिए भी मना किया गया एवं इसके नुकसान भी बताएगा बताए गए डॉ मोनिका भगत द्वारा बच्चों की माताओं को घर पर उपलब्ध अनाजों से आप कैसे अपने बच्चों को कुपोषित होने से बचा सकते हैं।। कार्यक्रम मैं डॉ जे पी चीचम डॉ मोनिका भगत डिप्टी मीडिया श्रीमती सुलोचना रजक एवम श्री मति करुणा मर्सकोले पोषक प्रशिक्षक श्रीमती रश्मि वर्मा एव नर्सिंग स्टाफ ओर स्पोर्ट स्टाफ उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here