महिलाओं द्वारा संचालित ’’ई-सवारी रिक्शा सेवा का पूरे प्रदेश में विस्तार किया जाएगा

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने इंदौर में महिला रिक्शा-चालकों को सौंपी ई-रिक्शों की चाबियाँ

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने आज इंदौर में महिलाओं द्वारा संचालित ई-सवारी रिक्शा सेवा का शुभारंभ करते हुए कहा कि महिला सशक्तिकरण की दिशा में यह नई पहल है। इस योजना का पूरे प्रदेश में विस्तार किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने महिला चालकों को ई-रिक्शा की चाबियाँ सौंपी और ई-रिक्शा की सवारी कर कार्यक्रम स्थल तक पहुँचे। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्म-निर्भर बनाने तथा उनकी सुरक्षा की ओर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। हमारा प्रयास है कि महिलाएँ स्वावलम्बी बनें और सम्मान के साथ जियें। उन्होंने कहा कि ई-सवारी रिक्शा सेवा से महिलाओं को रोजगार मिलेगा और वे आर्थिक रूप से मजबूत बनेंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुरुषों के रोजगार पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा।

मध्यप्रदेश को बनायेंगे स्वच्छ और सुरक्षित प्रदेश

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने इंदौर शहर के विकास और सफाई व्यवस्था की सराहना करते हुए कहा कि इंदौर आकर मुझे बहुत प्रसन्नता होती है। यह शहर स्वच्छ है। यहाँ जोश और उमंग है। उन्होंने कहा कि इंदौर शहर को अब पूरी तरह सुरक्षित बनाया जाएगा। इसी के साथ सम्पूर्ण मध्यप्रदेश को स्वच्छ और सुरक्षित प्रदेश बनाया जाएगा।

ई-रिक्शा में अत्याधुनिक सुविधाएँ

मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में महिला चालकों को दिये गये ई-रिक्शा अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्तित हैं। इनमें सवारी मुफ्त वाई-फाई का उपयोग कर सकेगी और एफ.एम. रेडियो सुन सकेगी तथा डिजिटल पेमेंट के माध्यम से भुगतान भी कर सकेगी। रिक्शे में मोबाइल एप्लीकेशन, जीपीएस ट्रेकिंग, मोबाइल चार्जिंग आदि की सुविधाएँ भी उपलब्ध हैं। योजना में पंजीकृत महिला चालकों को ई-रिक्शा के लिये फेम योजना में 30 प्रतिशत सबसिडी दी जा रही है। इसके अलावा 37 हजार रुपये की सबसिडी और 7 प्रतिशत के ऊपर ब्याज पर भी सबसिडी दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं घोषणाओं में नहीं, बल्कि काम करने में विश्वास करता हूँ। हमारे काम का प्रमाण-पत्र प्रदेश की जनता देगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता की शक्ति से नए मध्यप्रदेश का निर्माण किया जाएगा।

कृषि के क्षेत्र में लाई जाएगी नई क्रांति

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा किसानों की क्रय शक्ति बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कृषि के क्षेत्र में नई चुनौतियाँ सामने आ रही हैं। प्रदेश में अब कम उत्पादन नहीं, बल्कि अधिक उत्पादन की चुनौती हमारे सामने है। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को उनकी उपज का बेहतर दाम कैसे मिले, इसके लिये कारगर योजना बनाकर उसे क्रियान्वित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कृषि के क्षेत्र में नई क्रांति लाई जाएगी। श्री कमल नाथ ने कहा कि प्रदेश में औद्योगिक निवेश बढ़ाने के लिये लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। औद्योगिक निवेश के लिये बेहतर वातावरण भी तैयार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में औद्योगिक निवेश बढ़ेगा, तो रोजगार के नए अवसर भी पैदा होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here