सामाजिक सृजन हमारी पहली प्राथमिकता – अनीता सोनगोत्रा

पलायन एवं मानव तस्करी के मुददे पर एक दिवसीय जिला स्तरीय कार्यशाला का अयोजन

विगत दिवस हाॅटल नर्मदा इन, कटरा, मण्डला में सृजन समाज विकास समिति एवं एकशन एड् एसोशियेसन के संयुक्त तत्वाधान मेें पलायन एवं मानव तस्करी के मुददे पर एक दिवसीय जिला स्तरीय कार्यशाला का अयोजन माननीय पुलिस आधिक्षक महोदय मण्डला एस.एस. परिहार के मुख्य अतिथ्य एवं जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमति सरस्वती मरावी के अध्यक्षता में अयोजित किया गया जिसमेे जिला श्रम विभाग, विधिक प्राधिकरण, पुलिस महिला सेल, आजीविका मिशन, कान्हा प्रोडयूसर कम्पनी, जिला एडवाजरी कमेटी, स्वयं सेवी संस्था के प्रतिनिधी एवं
अधिकारी तथा मवई एवं विछिया मण्डला विकास खण्ड की 60 महिलाये उपस्थित रही।

सर्वप्रथम संस्था की डायरेक्टर अनिता सोनगोत्रा द्वारा संस्था का परिचय देते हुये कहा कि संस्था विगत 15 वर्षो से
जिले के मवई विकास खण्ड में महिलाओ की आजीविका सुरक्षा महिला अधिकार पर कार्य कर रही हैं। साथ ही उन्होने आज के कार्यक्रमों के उद्देश्य के बारे में विस्तृत चर्चा की भोपाल से आशना संदर्भ हेतु से आयी कमर फातिमा जी ने मानव तस्करी के विषय में विस्तृत प्रजेन्टेशन दिया एवं सरकारी आंकड़ो को बताया। कार्यक्रम के मुख्य अतिति पुलिस अधीक्षक श्री परिहार द्वारा मण्डला में हो रहे पलायन एवं मानव तस्करी को रोकने हेतु पुलिस

विभाग हमेशा तत्पर हैं, उन्होने कहाकि कोई भी महिला या बालिका के साथ हिंसा होती है तो वो तुरन्त हमें सूचना
दे एवं रिपोर्ट दर्ज करें। उन्होने यह भी कहा कि इस वर्ष उनके पास 105 केस आये थे जिसमे से 85 केसो पर उन्होने सफल कार्यवाही की है। जिला श्रम अधिकारी भी जितेन्द्र मेश्राम जी द्वारा पलायन करने वाले मजदूरो के लिये जो कानून है उस पर बात की गई उन्होने बताया पंचायत स्तर पर विभाग के द्वारा निर्धारित फार्मेट में जानकारी भरी जायेगी एवं प्रतिमाह जनपद पंचायत उसे विभाग तक पहुचाने की जिम्मेदारी सुनिश्चिित करेगा। जिसमे उनके साथ पलायन के समय कोई दिक्कत आती है तो विभाग तुरंत मदद करेगे तथा यह भी कहा कि कोई भी यदि बच्चो से मजदूरी करवाते है तो हमें तरुंत जानकारी दे ताकि उसके मालिक पर कार्यवाही की जा सके,
बाल श्रम कानून के विषय में भी उन्होने विस्तृत जानकारी दी। जिला विधिक अधिकारी श्रीमति दीपिका ठाकुर ने बताया कि किसी भी महिला या बच्चाी के साथ कोई भी हिंसा या बलात्कार हत्या जैसे अपराध होते हैं उनके विभाग द्वारा उन्हे निशुल्क कानूनी मदद देते हैं तथा पक्षकार राशि (मदद राशि) भी दी जाती हैं। तथा वकील की व्यवस्था भी देती हैं।

आजीविका मिशन के क्च्ड श्री भैसारे ने महिलाओ को बताया कि वे समूह संगठन के माध्यम से व्यवसाय कर सकते है जिससे उन्हे गांव में रोजगार मिलेगा और बाहर काम करने नहीं जाना पड़ेगा इसके लिए विभाग उनकी मदद करेगा। जिला ंपचायत अध्यक्ष श्रीमति सरस्वती मरावी द्वारा कहा गया कि महिलाये आत्मनिर्भर बने बच्चियों को शिक्षा से जोडे़ ताकि वे नौकरी कर सके। समाज सेवी अर्चना जैन जिला पंचायत सदस्य अनिता तिवारी, एडव्होकेट रेखा दीक्षित ने भी महिला को जीविका को जोड़ने हेतु एवं उनके कानून क्या है इस पर चर्चा कि जिला पुलिस महिला सेल से आकांक्षा उरमलिया भी उपस्थित रही ।

कान्हा प्रोडयूसर कम्पनी के रंजीत कछवाहा ने कहा कि महिलाये जो भी उत्पाद बनायेगी यह देशी व जैविक अनाज का व्यवसाय करे तो उनके माकेटिंग की व्यवस्था उनके पास है । रूरल मार्ट मे वे अपने उत्पाद बेच सकती है। अंत में अनिता सोनगोत्रा द्वारा कहा गया कि ंसस्था महिला और बच्चों के आजीविका एवं उनके अधिकार हेतु शासन विभाग सेे जोड़ने में सेतु का कार्य करेगी, एवं प्रशासन पुलिस विभाग, लेबर विभाग, तथा समस्त एसे विभाग जो महिलाओ की सुरक्षा देते है। उनके साथ मिलकर उन्हे न्याय दिलाने में मदद करेगी। न केवल जिले में बल्कि राज्य स्तर पर भी उनके साथ होने वाली हिंसा एंव अपराध के खिलाफ आवाज उठायेगी एवं उन्हे न्याय दिलाने में लगातार प्रशासन के सहयोग से मदद करने में प्रयासरत रहेगी ।

इसी के साथ समाजसेवी पैरा लीगल वालेटियर सुश्री किरण ठाकुर एवं समाज सेवाी सुनीता डोगसरे, चाइल्ड लाईन दीपक बाजपेई ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम का सफल संचालन समाजसेवी श्री योगेश पराशर द्वारा किया गया। एवं कार्यक्रम का समापन एवं अभार श्यामलता झारिया द्वारा किया गया। कार्यक्रम में संस्था के प्रतिनिधी सौरभ चटर्जी, जितेन्द्र लारेश्वर, आकांक्षा बरमैया, रजीन बरकड़े, दिलीप झारियां, जितेन्द्र धुर्वे, मौसम उईके का विशेष योगदान रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here