कमिश्नर ने की सभी विभागों की समीक्षा

कमिश्नर रवीन्द्र मिश्रा ने जिला योजना भवन में सभी विभागों की समीक्षा की। उन्होंने सभी विभागों को वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए दिए गए वित्तीय एवं भौतिक लक्ष्यों की आंकड़ेवार समीक्षा करते हुए संबंधित विभागों से प्रगति रिपोर्ट मांगी। श्री मिश्रा ने जिला पंचायत के अंतर्गत विभिन्न कार्यक्रमों की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने मनरेगा के तहत् किए गए कार्यों, भुगतान की आंकड़ेवार जानकारी मांगी। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण एवं प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण के दिये गये लक्ष्यों को शतप्रतिशत प्राप्त करें। जिला पंचायत सीईओ तन्वी हुड्डा ने विभिन्न कार्यक्रमों की आंकड़ेवार जानकारी दी। कमिश्नर ने स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत एमसीएच कार्यक्रम एवं परिवार कल्याण कार्यक्रम की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने परिवार कल्याण कार्यक्रम के अंतर्गत स्वास्थ्य विभाग को दिए गए लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए किए गए प्रयासों की जानकारी ली। उन्होंने संस्थागत प्रसव के आंकड़ों में सकारात्मक वृद्धि करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ग्रामीण अंचलों में होने वाले प्रसव का सेम्पल सर्वे कराया जाये ताकि संस्थागत प्रसव एवं गृह प्रसव के आंकड़ों का उचित मिलान किया जा सके। श्री मिश्रा ने कहा कि संस्थागत प्रसव से कोई बच्चा छूटने न पाए। उन्होंने जिले के ग्रामीण अंचलों में मौसमवार फैलने वाली बीमारियाँ एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए जा रहे इंतजामों के बारे में सवाल किए। आयुक्त ने जिले में मलेरिया को रोकने के लिए प्रभावी इंतजाम करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि मलेरिया प्रभावित क्षेत्रों में जरूरी दवाईयाँ, जागरूकता कार्यक्रम आदि सतत् रूप से जारी रखा जाये। मलेरियारोधी दवाईयों का वितरण छात्रावास, कॉलेज, आंगनवाड़ी एवं एएनएम आशा कार्यकर्ता के माध्यम से किया जाये। श्री मिश्रा ने जिले में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में जाना। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमण की संभावना होने पर उन्हें अस्पताल में आईसोलेशन वार्ड में रखा जाये तथा इलाज के लिए जरूरी सभी इंतजाम सुनिश्चित करें। इसके साथ-साथ उन्होंने जननी सुरक्षा, प्रसूति सहायता तथा अन्य कार्यक्रमों के बारे में विस्तार से चर्चा की।

                              कमिश्नर श्री मिश्रा ने जिले में निर्माणाधीन गौशालाओं की प्रगति रिपोर्ट मांगी। उन्होंने निर्माणाधीन गौशालाआंे को शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने जिले को मिले लक्ष्य को जल्द प्राप्त करने के निर्देश दिए। श्री मिश्रा ने गौशालाओं के निर्माण के पश्चात् उनके संचालन संबंधी प्रक्रिया पर भी विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि गौशालाओं के प्रबंधन के लिए स्व-सहायता समूह, स्थानीय लोगों तथा समाजसेवियों से संपर्क करते हुए कार्ययोजना तैयार करें। श्री मिश्रा ने गौशाला में पशुओं के खान-पान के जरूरी इंतजाम भी सुनिश्चित रखने के निर्देश दिये। कलेक्टर डॉ. जगदीश चन्द्र जटिया ने जिले में विभिन्न विभागों द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने जिले में आजीविका मिशन द्वारा ग्रामीणों को रोजगार देने के लिए किए जा रहे बेहतर कार्यों का ब्यौरा दिया। डॉ. जटिया ने रमतिला में बन रहे प्रशिक्षण केन्द्र की जानकारी भी दी। कमिश्नर ने आजीविका मिशन द्वारा जिले में किए जा रहे कार्यों से संतुष्टि जाहिर करते हुए प्रशंसा की। बैठक में अपर कलेक्टर मीना मसराम सहित सभी विभागों के जिला अधिकारी उपस्थित रहे।     

जिले के निर्माण कार्यों का कमिश्नर ने लिया जायजा

                              कमिश्नर रवीन्द्र मिश्रा 8 मार्च को जिले के दौरे पर रहे। उन्होंने जिले के अलग-अलग विकासखण्ड में चल रहे निर्माण कार्यों का जायजा लिया। श्री मिश्रा ने मोचा के स्वास्थ्य केन्द्र की निर्माण कार्य की प्रगति देखी। उन्होंने मोचा स्वास्थ्य केन्द्र को जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य केन्द्र के पूरा होने पर स्थानीय लोगों को फायदा मिलेगा।

                              आयुक्त ने चिरईडोंगरी मंें निर्माणाधीन उप तहसील भवन का निरीक्षण करते हुए निर्देशित किया कि भवन का निर्माण समुचित गुणवत्ता के साथ समय सीमा में पूर्ण किया जाये। श्री मिश्रा नैनपुर अनुभाग के ग्राम चमरवाही में बन रहे गौशाला निर्माण स्थल भी पहुंचे जहां उन्होंने गौशाला के संचालन प्रक्रिया के बारे में अधिकारियों से चर्चा की। कमिश्नर श्री मिश्रा ने गौशाला के प्रबंधन और संचालन के बारे में स्थानीय लोगों से बातचीत भी की। इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. जगदीश चन्द्र जटिया, सीईओ जिला पंचायत तन्वी हुड्डा एवं कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग जी.पी. पटले सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here