प्रत्येक व्यक्ति को पात्रतानुसार शासन की योजनाओं से लाभान्वित करें – हर्षिका सिंह

समय-सीमा एवं विभागीय समन्वय समिति की बैठक में कलेक्टर के निर्देश

                              प्रत्येक व्यक्ति को पात्रता के अनुसार शासन की योजनाओं से लाभान्वित किया जाए। कोई भी पात्र व्यक्ति शासन की योजनाओं से वंचित नहीं रहना चाहिए। यह निर्देश कलेक्टर हर्षिका सिंह ने समय-सीमा एवं विभागीय समन्वय समिति की बैठक में जिला अधिकारियों को दिए। बैठक में पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार शुक्ला, सीईओ जिला पंचायत तन्वी हुड्डा, अपर कलेक्टर मीना मसराम सहित सभी विभागों के जिला अधिकारी उपस्थित रहे।

                              कलेक्टर हर्षिका सिंह ने निर्देशित किया कि सभी अधिकारी विभागवार कार्ययोजना बनाकर घर-घर सर्वे कराऐं और हितग्राहियों को पात्रतानुसार शासन की योजनाओं से लाभान्वित करें। उन्होंने निर्देशित किया कि एसडीएम एवं जनपद पंचायत सीईओ सहित सभी अधिकारी क्षेत्र का लगातार भ्रमण करते हुए मैदानी अमले के कार्यों की सतत् मॉनिटरिंग करें। वनाधिकार दावों की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने निर्देशित किया कि दस्तावेजों के अभाव में प्रकरणों को लंबित नहीं रखें। चैकलिस्ट तैयार कर दस्तावेजों की कार्यवाही पूर्ण करते हुए नियमानुसार दावों का निराकरण सुनिश्चित करें। उन्होंने एसडीएम एवं जनपद सीईओ को वनाधिकार दावों की प्रकरणवार समीक्षा करने के निर्देश दिए।

                               कलेक्टर ने कहा कि सीएम हेल्पलाईन एवं जनसुनवाई सहित विभिन्न मंचों पर प्राप्त होने वाली शिकायतों का निर्धारित समयावधि में समुचित निराकरण किया जाए। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की चर्चा करते हुए उन्होंने निर्देशित किया कि बांध से पानी छोड़े जाने की सूचना पर्याप्त समय पहले प्रसारित की जाए। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की सूची तैयार कर आवश्यकतानुसार विस्थापन की स्थिति के लिए योजना तैयार रखें। प्रभावित क्षेत्रों में मुनादी कराते हुए लोगों को सतर्क रहने की सलाह भी दी जाए। उन्होंने सीईओ जिला पंचायत की उपस्थिति में बाढ़ राहत के कार्यों की मॉकड्रिल कराने के निर्देश दिए। सभी पुल, पुलियों एवं घाटों पर सावधानी बरतने संबंधी सूचनाऐं अंकित कराऐं। प्रत्येक पंचायतों में गोताखोरों का चिन्हांकन कर उन्हें सूचीबद्ध कर लिया जाए। बाढ़ राहत के संबंध सभी जरूरी तैयारियां पूर्ण रखी जाए।

                              लोकस्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने निर्देशित किया कि बारिश के दिनों में स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करें। जल स्त्रोतों का नियमित रूप से क्लोरीनेशन कराया जाए। बंद पड़े हेंडपंपों को जल्द से जल्द चालू कराया जाए। उन्होंने कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग को निर्देशित किया कि निर्माणाधीन सभी सड़कों में बोर्ड लगाए जाऐं। स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा करते हुए कलेक्टर हर्षिका सिंह ने निर्देशित किया कि सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करें। शतप्रतिशत प्रवासी श्रमिकों की स्क्रीनिंग की जाए। जिन क्षेत्रों में प्रवासी श्रमिक अधिक संख्या में आए हैं वहां से जांच के लिए अधिक सेम्पल लिए जाएं। महिला एवं बाल विकास की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने निर्देशित किया कि अधिक कुपोषित बच्चों को एनआरसी भेजा जाए। उन्होंने प्रत्येक बच्चे का फॉलोअप करने के निर्देश दिए। आंगनवाड़ी केन्द्रों के माध्यम से गर्भवती एवं धात्री महिलाओं तथा बच्चों को मिलने वाली सुविधाऐं समय पर दी जाए। कलेक्टर ने डीडीए कृषि को निर्देशित किया कि खाद एवं बीज की सतत् उपलब्धता सुनिश्चित करें तथा दुकानों में बेचे जा रहे खाद, बीज की गुणवत्ता की जांच कराएं। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि गरीब कल्याण योजना एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत् जून माह तक का खाद्यान्न का वितरण का कार्य जल्द पूर्ण कराया जाए। वृक्षारोपण के कार्यों में स्व-सहायता समूह का सहयोग लेते हुए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करें। बांस के वृक्षारोपण पर विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्त कर्मचारियों के स्वत्वों का भुगतान समय-सीमा पर किया जाए।

                              बैठक में श्रीमती सिंह ने ऑनलाईन फीडिंग का कार्य पूर्ण नहीं करने वाले संकुल प्राचार्यों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। बैठक में नामांतरण एवं बंटवारा के प्रकरण, किसानों के भुगतान की स्थिति, मनरेगा के कार्य, विद्युत लाईनों के रखरखाव, सौभाग्य योजना, जल जीवन मिशन आदि की भी समीक्षा की गई।

दिव्यांगों को घर पर ही मिले सेवाऐं

                              कलेक्टर हर्षिका सिंह ने निर्देशित किया कि दिव्यांगजनों के कार्यों को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान किया जाए। प्रयास यह होना चाहिए कि दिव्यांगजनों को शासकीय लाभ के लिए संबंधित कार्यालय तक न आना पड़े। उन्हें घर में ही आवश्यक सेवाऐं प्रदान की जाए। अभियान चलाकर सभी दिव्यांगजनों को प्रमाण पत्र जारी कराएं। श्रीमती सिंह ने दिव्यांगजनों के लिए जिला स्तर पर कॉलसेंटर स्थापित करने तथा मोबाईल ऐप्प बनाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने पंचायत स्तर पर दिव्यांग रजिस्टर, निर्माण कार्य रजिस्टर एवं शिकायत रजिस्टर संधारित करने के निर्देश दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here