मीडिया टुडे – समाचार

अनुविभागों में हुआ खाद भंडारों और दुकानों का निरीक्षण

               जिले में खाद उपलब्धता और भंडारण की वास्तविक स्थिति को देखने सभी अनुविभागों के एसडीएम ने निरीक्षण किया। उन्होंने अपने क्षेत्र के सहकारी समिति और दुकानों का निरीक्षण किया। अनुविभागीय दंडाधिकारियों ने दुकानों में भंडारण और वितरण की स्थिति जानी। उन्होंने पंजी संधारण का निरीक्षण करते हुए वास्तविक स्थिति भी देखा। एडीएम सहित सभी एसडीएम ने अपने अमले के साथ सहकारी समितियों मे प्राप्त खाद और अब तक वितरित हुए खाद के बारे में विस्तार से जाना। सभी अधिकारियों ने खाद दुकानों के संचालकों को निर्धारित कीमत पर ही खाद उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने किसानो को  खाद उपलब्ध कराने अनावश्यक रूप से परेशान नहीं करने के निर्देश दिए। अनुविभागीय दंडाधिकारियों ने मंडला सहित  जामगांव, पिंडरई एवं अन्य अनुविभागों की सहकारी समितियों और दुकानों का निरीक्षण किया।

जिले में अब तक 917.0 मिमी. औसत वर्षा दर्ज

जिले में इस वर्ष एक जून से 23 अगस्त के दौरान 917.0 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की गई है जबकि इसी अवधि तक गत वर्ष 983.7 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई थी। इस प्रकार गत् वर्ष की तुलना में इस वर्ष 66.7 मिलीमीटर कम वर्षा दर्ज की गई है।

अधीक्षक भू-अभिलेख से प्राप्त जानकारी के अनुसार 23 अगस्त को मण्डला तहसील में 5.4 मिमी., नैनपुर में 11.2, बिछिया में 2.6, निवास में 13.2, घुघरी में 6.0 तथा नारायणगंज में 6.6 मिमी. वर्षा दर्ज की गई। इस प्रकार जिले में 23 अगस्त को 6.5 औसत वर्षा दर्ज की गई है।

मलेरिया, डेंगू व चिकुनगुनिया से बचाव के लिए एडवाईजरी

बारिश के मौसम में अपने आसपास नियमित साफ-सफाई रखें। वर्षा के जल को एक जगह एकत्रित न होने दें। मलेरिया, डेंगू एवं चिकुनगुनिया से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा एडवाईजरी जारी की गई है। मच्छर से फैलने वाले वाहक जनित रोग-मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया जैसी बीमारियों से सुरक्षा के लिए जनभागीदारी व जनजाग्रति का होना आवश्यक है। वर्षाकाल में जगह-जगह एकत्रित पानी में मच्छरों की उत्पत्ति व वृद्धि होती है। ये मच्छर, रोगी व्यक्ति को काटने पर संक्रमित हो जाते है व इन संक्रमित मच्छर के काटने से मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया, रोग का प्रसार होता है। इन बीमारियों से ग्रसित रोगी को बुखार सिरदर्द, बदनदर्द, उल्टी आना, ढंड लगना जैसे लक्षण होते हैं जिनका त्वरित उपचार आवश्यक है।

मलेरिया रोग एनाफिलीज मच्छर के काटने से फेलता है तथा यह मच्छर रात में सक्रिय रहता है। डेंगू व चिकुनगुनिया रोग, सफेद चकते वाले एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर दिन में सक्रिय रहता है। बीमारी फैलाने वाले मच्छर घरों में नमी वाले अंधेरे स्थान में विश्राम करते है एवं साफ व रूके पानी में पनपते हैं जो कि हमारे घरों में व आसपास पानी से भरे पात्र जैसे- गमले, टंकी, टायर, मटके, कूलर, टूटाफूटा कबाड में भरे पानी, नल, हैण्डपंप व कुएं के आसपास भरे पानी में मच्छर अपने अण्डे देते हैं। पानी से भरे बर्तन, टंकियों आदि का पानी सप्ताह में अवश्य बदलते रहें व कुएं, हैण्डपंप, नल के आसपास पानी इकट्ठा न होने दें। गड्ढों का मिट्टी से भराव करें या पानी की निकासी कराकर मच्छरों के उत्पत्ति स्थल को नष्ट करें, व मच्छरों के लार्वा नहीं पनपने दें। मच्छरों से बचाव करें। मच्छरों से बचाव के लिए सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें, पूरे आस्तीन के कपडे पहने, मच्छर भगाने वाली क्रीम या क्वाइल का उपयोग करे, नीम की पत्ती का धुंआ करें।

               कोई भी बुखार मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया हो सकता है जिसका इलाज संभव है। किसी भी बीमारी के लक्षण दिखने पर शीघ्र स्वास्थ्य केन्द्र में निःशुल्क जांच करायें तथा चिकित्सक के परामर्श से पूर्ण उपचार लें। मलेरिया की जांच ग्राम स्तर तक आरोग्य केन्द्र व स्वास्थ्य केन्द्रो में निःशुल्क उपलब्ध है।

अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति के लिए 31 अक्टूबर अंतिम तिथि

सहायक संचालक पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश के मूल निवासी अल्पसंख्यक समुदाय के विद्यार्थियों को भारत में अध्ययन करने के लिये शैक्षणिक सत्र 2020-21 हेतु भारत सरकार द्वारा अधिसूचित अल्पसंख्यक अतर्गत मुस्लिम, ईसाई बौद्ध, सिख, पारसी एक जन समुदायों के छात्र-छात्राओं से मेरिट-कम-मीन्स, पोस्ट मैट्रिक एवं प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना अंतर्गत तकनीकी एक व्यवसायिक पाठ्यकमों में अध्ययनरत नवीन एवं नवीनीकरण विद्यार्थियों के लिये 31 अक्टूबर 2020 तक ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये गए हैं। छात्रवृत्ति के लिए विद्यार्थी को ऑनलाईन आवेदन करने भारत सरकार की National Scholarship Portal(NSP)URL.www.scholership.gov.in पर जिसकी लिंक भारत सरकार की वेबसाईट www.minorityaffairs.gov.in पर भी उपलब्ध है भरना होगा।

योजना से संबंधित विस्तृत दिशा-निर्देश एवं मान संचालन प्रकिया National Scholarship Portal(NSP) पर उपलब्ध है। छात्रवृत्ति हेतु केवल ऑनलाईन आवेदन ही ही स्वीकार किये जायेंगे, ऑफलाईन आवेदनों पर विचार नहीं किया जायेगा। भारत सरकार द्वारा मध्यप्रदेश के लिए वर्ष 2020-21 में मेरिट-कम-मीन्स, पोस्ट मैट्रिक एवं प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति के नवीन प्रकरणों हेतु लक्ष्य निर्धारित किये गये है। विद्यार्थियों द्वारा 12 अंको का आधार नम्बर भरना जरूरी है। जिन विद्यार्थियों द्वारा आधार नम्बर हेतु पंजीयन किया गया हैं तो उनके द्वारा 10 अंको का आधार पंजीयन कमांक (ईआईडी) भरा जाए। यदि विद्यार्थी के नाम से 12 अंको का आधार जारी न हुआ हो तो पहचान संबंधी बैंक पासबुक फोटोग्राफ्स सहित, राशन कार्ड, पेन नंबर, पासपोर्ट, स्कूल द्वारा जारी फोटोयुक्त आईडी, ड्राईविंग लायसेंस आदि जमा करना होगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here