मीडिया टुडे – समाचार

एपीसी ने की मंडला सहित संभाग के सभी जिलों की विस्तृत समीक्षा

वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में कलेक्टर सहित संबंधित हुए शामिल

मध्यप्रदेश शासन के एपीसी श्री केके सिंह  ने मंडला सहित जबलपुर संभाग के सभी जिलों के कृषि, पशुपालन, उद्यानिकी, सिंचाई तथा अन्य संबंधित विभागों की विस्तृत समीक्षा बैठक ली। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से आयोजित इस बैठक में कलेक्टर हर्षिका सिंह, जिला पंचायत सीईओ तन्वी हुड्डा सहित कृषि, सहकारिता, पशुपालन, नागरिक आपूर्ति, उद्यानिकी, जल संसाधन तथा संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। बैठक में एपीसी श्री सिंह ने जिले के पशुपालन विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने पशुधन बीमा, कृत्रिम गर्भाधान, दुग्ध उत्पादन, गौशाला निर्माण आदि विषयों पर आंकड़ेवार चर्चा की। उन्होंने पशुपालन विभाग द्वारा जारी केसीसी बनाने की प्रगति भी जानी। इसी प्रकार प्रमुख सचिव ने कृषि विभाग की समीक्षा करते हुए रबी एवं खरीफ मौसम में विभिन्न फसलों का क्षेत्राच्छादन तथा इसके अनुपात में उत्पादन के बारे में चर्चा की गई। प्रमुख सचिव कृषि ने जिले में खाद एवं बीज उपलब्धता, अमानक उर्वरकों एवं बीजों पर की गई कार्यवाही तथा रबी एवं खरीफ के मौसम में खाद एवं बीज की मांग पर विस्तृत चर्चा की।

कलेक्टर ने दी जानकारी

               कलेक्टर हर्षिका सिंह ने पशुपालन विभाग के अंतर्गत जिले में किए जा रहे नवाचार एवं अन्य कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने पशुपालन, सहकारिता सहित मत्स्य एवं अन्य विभागों द्वारा किसानों के लिए बनाए जा रहे किसान क्रेडिट कार्ड के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि जिले में दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने चिन्हित किए जा रहे नए मिल्क रूट एवं नए सांची पार्लर खोलने स्थान चिन्हित किए जा रहे हैं। श्रीमती सिंह ने गौशाला निर्माण, कड़कनाथ प्रोजेक्ट तथा एनआरएलएम के माध्यम से संचालित गतिविधियां के बारे में बताया। इसी प्रकार कृषि एवं अन्य विभागों की विकासपरक गतिविधियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। एपीसी श्री सिंह ने जिले में केसीसी बनाने एवं अन्य नवाचारों के लिए जिला कलेक्टर हर्षिका सिंह सहित संबंधित विभागों की प्रशंसा की।

मंडला एवं नैनपुर विकासखंड में 42 कड़कनाथ इकाई वितरित

उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवाएँ से प्राप्त जानकारी के अनुसार हितग्राही मूलक कड़कनाथ कुक्कुट पालन योजना अंतर्गत 15 अक्टूबर को ग्राम रामदेवरी, देवगांव, मोहगांव, चरी, चिचोली, कछारी, खुर्सीपार, तुईयापानी, बरबसपुर विकासखंड नैनपुर एवं मंडला, देवरी दादर, खम्हरिया, पादरी पटपरा एवं सिमरिया विकासखंड मंडला में कुल 42 कड़कनाथ इकाई का वितरण किया गया। वितरण कार्यक्रम में चैनसिंह उइके जनपद पंचायत अध्यक्ष नैनपुर, रत्तो बाई कुलस्ते सरपंच पादरी पटपरा उपस्थित रहे। डॉ. सरला सिंह पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ एवं डॉ. आरएम भुरमुदे योजना प्रभारी पशु चिकित्सा विभाग मंडला द्वारा कुक्कुट पालन एवं रखरखाव संबंधी जानकारी से हितग्राहियों को अवगत कराया गया।

अब पॉलीटेक्निक कॉलेज में सभी श्रेणियों को मिलेगा प्रवेश

एकलव्य योजनांतर्गत 19 अक्टूबर तक रहेगी पंजीयन की सुविधा

               प्राचार्य शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय मण्डला से प्राप्त जानकारी के अनुसार अब पॉलीटेक्निक कॉलेज मंडला में अनारक्षित सहित अन्य सभी श्रेणियों की छात्राओं के लिए एकलव्य योजना अंतर्गत प्रवेश प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में अनुसूचित जनजाति की छात्राओं के लिए एकलव्य योजना संचालित है जिसके अंतर्गत कम्प्यूटर साइंस इंजी., इलेक्ट्रिकल इंजी. तथा इलेक्ट्रिॉनिक्स टेलीकम्युनिकेशन इजी. के लिए त्रि-वर्षीय डिप्लोमा में एसटी वर्ग की छात्राओं को प्रवेश दिया जाता है।

               प्राचार्य श्री परोहा द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इस वर्ष महाविद्यालय में एकलव्य योजनांर्गत 180 प्रवेश क्षमता के अनुपात में लगभग 80 प्रतिशत स्थान रिक्त है। प्रवेश के नियमानुसार रिक्त स्थानों को अब अनारक्षित सहित अन्य श्रेणी की दसवी पास छात्राओं से भी भरा जा सकेगा। महाविद्यालयीन प्रवेश के लिए छात्रा को गणित एवं विज्ञान विषयों में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। प्रवेश हेतु इच्छुक समस्त श्रेणी की छात्राओं को  www.dte.mponline.gov.inपर पंजीयन कर संस्था स्तर की काउन्सलिंग में भाग लेना होगा। उपरोक्त साइट पंजीयन के लिए 19 अक्टूबर तक खुली रहेगी एवं पंजीकृत एसटी छात्राएँ संस्था में 17 अक्टूबर से 19 अक्टूबर तक कार्यालयीन समय में उपस्थित होकर प्रवेश प्राप्त कर सकेंगी। इसके पश्चात 20 अक्टूबर को सभी श्रेणियों की छात्राओं को नियमानुसार प्रवेश अवसर दिया जायेगा। प्राचार्य ने कहा है कि प्रवेश संबंधी अधिक जानकारी के लिए कार्यालय शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय मण्डला के दूरभाष नंबर 9407669171, 9407175177 तथा 9009386033 पर संपर्क किया जा सकता है।

मूर्ति को विसर्जन स्थल पर ले जाने के लिए अधिकतम 10 व्यक्तियों की होगी अनुमति

धार्मिक कार्यक्रम एवं त्यौहारों के संबंध में कलेक्टर ने जारी किए दिशा-निर्देश

               कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु धार्मिक कार्यक्रम एवं त्यौहार के संबंध में जारी दिशा निर्देशों के परिप्रेक्ष में जनसामान्य के स्वास्थ्य हित एवं लोक शांति बनाये रखने तथा सोशल डिस्टेंसिंग (सामाजिक अलगाव) के उद्देश्य से कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी हर्षिका सिंह द्वारा संपूर्ण मण्डला जिले में तत्काल प्रभाव से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर उसका सख्ती से पालन कराने के निर्देष जारी किये गये हैं।

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी हर्षिका सिंह द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर स्थापित की जाने वाले प्रतिमा/ताजिए की उँचाई पर पूर्व परिपत्र में उल्लेखित प्रतिबंध समाप्त किया जाता है। प्रतिमा/ताजिये के लिए पण्डाल का आकार अधिकतम 30 गुणा 45 फिट नियत किया जाता है। आदेश में झांकी निर्माताओं को यह सलाह दी गई है कि वे ऐसी झांकियों की स्थापना एवं प्रदर्शन नहीं करें, जिनमें संकुचित जगह के कारण श्रद्धालुओं/ दर्शकों की भीड़ की स्थिति बने तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना हो सके। झॉकी स्थल पर श्रद्धालुओं/ दर्शकों की भीड़ एकत्र नहीं हो तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो इसकी व्यवस्था आयोजकों को सुनिश्चित करना होगी। आदेश के अनुसार मूर्ति विसर्जन संबंधित आयोजन समिति द्वारा किया जाएगा। मूर्ति को विसर्जन स्थल पर ले जाने के लिए अधिकतम 10 व्यक्तियों के समूह की अनुमति होगी। इसके लिए आयोजकों को पृथक से अपने क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी से लिखित अनुमति प्राप्त किया जाना आवश्यक होगा। मूर्ति विसर्जन की विकेन्द्रीकृत व्यवस्था अपनायी जायेगी तथा चयनित स्थलों पर ही विसर्जन किया जायेगा। कोविड संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए धार्मिक/ सामाजिक आयोजन के लिए चल समारोह निकालने की अनुमति नहीं होगी। विसर्जन के लिए सामूहिक चल समारोह भी अनुमत्य नहीं होगा। साथ ही गरबा के आयोजन नहीं हो सकेंगे। लाउडस्पीकर बजाने के संबंध में माननीय सर्वाेच्च न्यायालय द्वारा जारी की गई गाईड लाईन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। रावण दहन के पूर्व परम्परागत श्रीराम के चल समारोह प्रतीकात्मक रूप से अनुमत्य होगा। रामलीला तथा रावण दहन के कार्यक्रम खुले मैदान में फेस मास्क तथा सोशल डिस्टेंसिंग की शर्त पर आयोजन समिति द्वारा अपने क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी की पुर्वानुमति प्राप्त कर आयोजित किये जा सकेंगे। आदेश में कहा गया है कि 15 अक्टूबर 2020 के उपरांत होने वाले इन आयोजनों में संख्या की सीमा संबंधति क्षेत्र के अनुविभागीय दण्डाधिकारी द्वारा जिला कलेक्टर से अनुमति प्राप्त कर नियत की जा सकेगी।

सार्वजनिक स्थानों पर कोविड संक्रमण से बचाव के तारम्य में झाकियों, पंडालों विसर्जन के आयोजनों, रामलीला तथा रावण दहन के सार्वजनिक कार्यक्रमों में श्रद्धालु/दर्शक फेस कवर, सोशल डिस्टेंसिंग एवं सेनेटाइजर का प्रयोग के साथ ही राज्य शासन द्वारा समय-समय पर जारी किये गये निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जावे। समस्त दुकानें रात्रि 8 बजे तक खुलने की अनुमति होगी। केमिस्ट, रेस्तरा, भोजनालय, राशन एवं खान-पान से संबंधित दुकानें 8 बजे के बाद भी अपने निर्धारित समय पर खुली रह सकती है। रात्रि 10.30 बजे से सुबह 6 बजे तक अकारण आवागमन न हो इसके लिये नियमित रूप से पेट्रोलिंग व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। दुकानों का निरंतर निरीक्षण कराया जाये। दुकान संचालकों से अपेक्षा है कि वे स्वयं मास्क पहनें तथा ग्राहकों के उपयोग के लिये सेनेटाईजर तथा सोशल डिस्टेंसिंग के लिये 1-1 गज की दूरी पर घेरे बनायें। ऐसा नही करने वाले संचालकों के विरूद्ध नियमानुसार जुर्माना एवं दाण्डिक कार्यवाही की जाये। पुलिस प्रशासन द्वारा उक्त जारी आदेश का सख्ती से पालन सुनिश्चित कराया जायेगा। आदेश के उल्लंघन पर भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 व अन्य प्रासंगिक धाराओं तथा आपदा अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 के प्रावधानों के तहत आवश्यक वैधानिक कार्यवाही की जायेगी।

ई-केवाईसी कराकर 23 अन्य राज्यों की दुकानों से भी प्राप्त कर सकते हैं राशन

               जिला आपूर्ति अधिकारी ओपी पांडे ने बताया कि शासन की “वन नेशन वन राशन कार्ड“ योजनान्तर्गत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 अन्तर्गत लाभान्वित हितग्राही अपनी स्थानीय शासकीय उचित मूल्य दुकान के अतिरिक्त प्रदेश के अन्य जिलों के साथ-साथ 23 अन्य राज्यों की शासकीय उचित मूल्य दुकानों से भी पात्रता अनुसार राशन प्राप्त कर सकते हैं। विशेष कर माईग्रेट होकर बाहर जाने वाले या प्रदेश में आने वाले मजदूरगण सस्ते राशन की सुविधा कार्य वाले स्थान से प्राप्त कर सकते हैं। इस हेतु यह आवश्यक है कि परिवार के सभी सदस्यों के आधार पोर्टल पर दर्ज कराये गए हो तथा उनकी ई-केवाईसी स्थानीय दुकान से करा ली गई हो। इस संबंध में ऐसे समस्त उपभोक्ता जिन्हें मजदूरी हेतु बाहर जाना पड़ता है, से आग्रह है कि वे अपने परिवार के समस्त सदस्यों की आधार सीडिंग एवं ई-केवाईसी स्थानीय दुकान से अनिवार्य रूप से करा लें एवं इस सुविधा का लाभ उठावें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here