विश्व सिंधी सेवा संगठन ने श्रीराम मंदिर के लिए दान की 200 किलो चांदी, सिंहासन और मूर्तियां बनाने में होगा प्रयोग

विदेशों में रह रहे सिंधी समाज के लोगों के सहयोग से भगवान राम के लिए मंदिर निर्माण में एक-एक किलो की 200 चांदी की ईटें समर्पित की गई हैं. इन ईटों की कीमत 1 करोड़ 50 लाख रुपये बताई जा रही है.

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए हर भक्त उत्साहित है. ऐसे में सभी भक्त अपनी श्रद्धानुसार दान दे रहे हैं. जहां एक ओर विश्व हिंदू परिषद और राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा समर्पण निधि अभियान चलाया जा रहा है, वहीं सिंधी समाज भी राम मंदिर के लिए बढ़-चढ़कर दान दे रहा है. हाल ही में अयोध्या के कारसेवक पुरम में देश के अलग-अलग प्रांतों से आए विश्व सिंधी सेवा संगठन के लोगों ने 200 किलो चांदी की ईंट दान की है. राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय को यह ईंट सौंपी गई. 

चांदी की ईंट की कीमत 1.50 करोड़

दरअसल, विदेशों में रह रहे सिंधी समाज के लोगों के सहयोग से भगवान राम के लिए मंदिर निर्माण में एक-एक किलो की 200 चांदी की ईटें समर्पित की गई हैं. इन ईटों की कीमत 1 करोड़ 50 लाख रुपये बताई जा रही है. इन ईंटों पर सिंधी समाज के देवता वरुण देव का चित्र बना हुआ है. ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने विश्व सिंधी सेवा संगठन के सभी सदस्यों को राम मंदिर के लिए सहयोग देने पर आभार व्यक्त किया है. 

इनसे बनाया जाएगा सिंहासन या मूर्तियां

लगभग 100 की संख्या में पहुंचे विश्व सिंधी सेवा संगठन के सदस्यों में महिला और पुरुष दोनों शामिल थे. इन लोगों ने कारसेवक पुरम में सबसे पहले भगवान राम को 200 किलो चांदी की ईंटें समर्पित कीं. उसके बाद राम जन्मभूमि जाकर राम लला के दर्शन किए. विश्व सिंधी सेवा समिति के अंतरराष्ट्रीय चेयरमैन डॉ. राजू मनवानी ने कहा कि विश्व सिंधी सेवा संगम, विश्व सिंधी सेवा समिति और सिंधी सेवा समिति पुणे ने मिलकर राम मंदिर के लिए 200 चांदी की ईंटें भेंट की हैं. सिंधी समाज ने ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय से निवेदन किया है कि इन ईंटों को राम मंदिर में प्रयोग किया जाए. जानकारी के मुताबिक, हर एक ईंट की कीमत 70 हजार रुपये है. माना जा रहा है कि सिंधी समाज की इच्छा के अनुसार इस चांदी को भगवान राम के सिंहासन या मूर्तियों में इस्तेमाल किया जाएगा. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here