पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का दिया संदेश : दीपक जाट

पौधरोपण के लिए मंडला जिले में उत्साह का माहौल बनते जा रहा है। लोग जागरूकता का परिचय देते हुए पौधरोपण कर रहे हैं। इसी क्रम में सोमवार को प्रयास जन सशक्तिकरण संस्थान की अध्यक्ष सुश्री रानू शर्मा जी के नेतृत्व में कुंभ स्थल पर पौधा रोपण किया गया, पौधारोपण कार्यक्रम में प्रयास जन सशक्तिकरण संस्थान के सदस्य पूजा ज्योतिषी, अभय ज्योतिषी, अशोक मिश्रा, राजेश यादव, उत्कर्ष तिवारी एवं दीपक जाट उपस्थित रहे .

त्रासदी में आक्सीजन को लेकर हुई जद्दोजहद ने पूरे समाज को पेड़-पौधों का महत्व समझा दिया है। अब समाज का दायित्व बनता है कि वो सर्वाधिक आक्सीजन उत्सर्जित करने वाले नीम, बरगद, पीपल के अधिक से अधिक पौधे रोपकर अपनी समझ का परिचय दें। उन्होंने लोगों से आह्वान भी किया कि वे हर माह में एक पौधा जरूर लगाएं। उन्होंने कहा कि आज जो पौधारोपण किया है, वह हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए तोहफा होगा, क्योंकि ये पेड़ पौधे बड़े होकर सदियों तक सभी को जीवन के रूप में ऑक्सीजन देते रहेंगे।

पूजा ज्योतिषी

अभय ज्योतिषी – पौधारोपण करने के बाद उसकी देखभाल करना बहुत जरूरी है, क्योंकि अधिकतर लोग पौधारोपण तो करते हैं, लेकिन उनकी देखभाल नहीं करते। इस कारण कुछ दिनों बाद वे पौधे खत्म हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि पौधारोपण करने के बाद ही उनकी देखभाल करने की जिम्मेदारी शुरू हाेती है, इसलिए हमें पौधारोपण करने के बाद उसकी देखभाल करनी चाहिए।

अशोक मिश्रा – वृक्ष हमारे मित्र हैं। पेड़ से हमें आक्सीजन मिलती है। पर्यावरण संतुलन बनाता है। इसलिए हम सबको जीवन में अधिक से अधिक पेड़ लगानी चाहिए। सांस लेने के लिए शुद्ध हवा चाहिए। पेड़ जहरीली हवा को शुद्ध हवा में बदलती है। जीवन उपयोगी औषधियों एवं लकड़ी इन वनों से पूरी होती है।

राजेश यादव – पौधारोपण करना बहुत जरूरी है। जिस तरह हम हवन में आहुति डालते हैं पौधारोपण करना भी उसी के समान है। पर्यावरण को सुरक्षित रखना हम सबकी जिम्मेदारी है, इसलिए हम सभी को पौधारोपण करना चाहिए

उत्कर्ष तिवारी – पौधों के कारण आज मनुष्य जीवित है। यदि पेड़-पौधे नहीं होंगे तो मनुष्य का जीवन संभव नहीं है। पेड़-पौधे इंसान के लिए उतने ही जरूरी है, जितने हवा और पानी। पेड़ हमारे जीवंत देवता हैं और जीवन का आधार भी।

पौधों का महत्व हर किसी को समझना होगा। जब तक हम और आप इसे नहीं समझेंगे तब तक पर्यावरण संरक्षण की दिशा में बढ़ाया हुआ कदम सार्थक नहीं होगा। एक व्यक्ति चौबीस घंटे में औसतन 550 लीटर आक्सीजन का उपयोग करता है। जबकि एक पेड़ इतने ही समय में 55 से 60 लीटर आक्सीजन उत्सर्जित करता है। इस तरह से प्रत्येक व्यक्ति को इस धरती पर जीवित रहने के लिए उसके हिस्से की आक्सीजन आपूर्ति के लिए दस पेड़ चाहिए इसलिए पर्यावरण संरक्षण को समझ कर ज्यादा से ज्यादा पौधारोपड़ करना चाहिए

दीपक जाट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here