पहला सूर्य ग्रहण … सरिता अग्निहोत्री

10 जून दिन गुरुवार को इस साल का पहला सूर्य ग्रहण पड़ रहा है आशिक सूर्य ग्रहण है भारत के कुछ स्थान के अलावा अन्य कई देशों में यह स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है इसका रूप कंकणाकार होगा जिस प्रकार चंद्रमा मन का परिचायक है उसी तरह सूर्य आत्मा का द्योतक है क्योंकि कई के मतानुसार सूर्य ग्रहण का प्रभाव नहीं होगा किंतु मेरे मतानुसार सूर्य तो निकला है और सूर्य पर ग्रहण लगा है सूर्य आत्मा का द्योतक है ग्रहण काल में जातक प्रभावित होता है तो स्वाभाविक है हर जातक पर इसका प्रभाव पड़ेगा।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण का प्रभाव संपूर्ण पृथ्वी पर एवं जातकों पर पड़ता है वैसे भी माह में दो ग्रहण चंद्र ग्रहण एवं सूर्य ग्रहण पड़ा है.प्रकृति अभी संयमित नहीं है प्रकृति में अनेक परिवर्तन हो रहे हैं। सूर्य ग्रहण का सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला भाग अरुणाचल प्रदेश एवं लद्दाख है भूकंप, चक्रवात वायरस तूफान आदि ज्यादा प्रभावशील रहेंगेअर्थात इनका प्रकोप बढ़ेगा। ग्रहण से डरने की आवश्यकता नहीं है अपितु सावधानी रखने की जरूरत है जरूरी नहीं है कि आप ज्योतिष शास्त्र पर विश्वास करें किंतु सजग जरूर रहें.जैसे कोरोनावायरस से बचने के लिए विशेष सावधानी की आवश्यकता है और अगर सावधानी नहीं रखेंगे तो इस वायरस से संक्रमित होंगे उसी प्रकार ग्रहण के दुष्परिणाम से बचने के लिए सावधानी अत्यंत जरूरी है जिस जातक का सूर्य कमजोर है या जिस राशि पर ग्रहण पड़ रहा है उसके लिए तो आवश्यक हो जाता है कि विशेष सावधानी रखें। सूर्य ग्रहण दोपहर 1:42 से शाम 6:42 तक रहेगा ।

क्या करें :

तुलसी पहले से तोड़ कर रख ले दूध जल खाने पीने की चीजों में तुलसी पत्र अवश्य डाल दें वैज्ञानिक एवं आध्यात्मिक दृष्टि से देखा जाए तो तुलसी कीटाणु नाशक होती है इसलिए सब चीजों में डाल दी जाती है सूतक काल में भगवान की मूर्ति को कपड़े से देवें मूर्ति का स्पर्श ना करें बुजुर्ग बच्चे गर्भवती महिलाएं इनके ऊपर ग्रहण काल में खाने में प्रतिबंध नहीं रहता ज्यादा से ज्यादा दूध जल और फल ग्रहण करें जिस जातक का सूर्य कमजोर है सूर्य ग्रहण बिल्कुल भी ना देखो वैसे भी जिन राज्यों के ऊपर राशियों के ऊपर ग्रहण का प्रभाव है यह सूर्य ग्रहण ना देखें गुरु मंत्र का जाप इष्ट का जाप ,महामृत्युंजय का जाप ,गायत्री मंत्र का जाप अवश्य करते रहे ग्रहण की समाप्ति के बाद पीली वस्तुओं का दान करें आइए देखते हैं .

क्या पडेगा प्रभाव :

सूर्य ग्रहण का किन राशियों पर अच्छा प्रभाव पड़ने वाला है जिसमें मिथुन ,कन्या ,मकर सुविधा के साथ शुभता प्राप्त होगी मेष राशि वाले के लिए भी सूर्य ग्रहण शुभ है वृषभ राशि सावधानी व सतर्क रहें कर्क राशि वाले सूर्य ग्रहण सिंह राशि वाले अपने माता-पिता का ध्यान रखें विनम्रता के साथ पूजा पाठ में अपना ध्यान लगाएं तुला राशि वाले निर्णय सोच-समझकर करें परेशानियां दूर होंगी वृश्चिक राशि अपना एवं अपने जीवनसाथी की ओर विशेष स्वास्थ्य की दृष्टि से ध्यान देवें धनु राशि वाले के लिए भी स्वास्थ्य की दृष्टि से सूर्य ग्रहण प्रभाव उचित नहीं है कुंभ राशि वालों घरेलू परेशानियों का सामना करना पड़ेगा मीन राशि वाले अपने स्वास्थ्य की ओर आवश्यक रूप से ध्यान देवें एवं अपने भाई बहन के संबंध में आवश्यक रूप से ध्यान देवें |

क्या करें विशेष राशियां जिन पर की ग्रहण का प्रभाव उचित नहीं है वे दान अवश्य करें उचित पात्र को दान देवें गुरु मंत्र का जाप करें आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करें गायत्री मंत्र का जाप करें इष्ट का ध्यान करें महामृत्युंजय का जाप करें घर में जो यंत्र रखे हैं उनका जल अभिषेक करें अपने को संयमित करें अगर बिना वजह क्रोध एवं तनाव उत्पन्न हो रहा है तो जातक को अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए कि उसके ऊपर ग्रहण का प्रभाव है या जातक का सूर्य कमजोर है सबसे अच्छा उपाय है मौन होकर गायत्री मंत्र का जाप किया जाए पीली वस्तुओं का दान करें पीले लड्डू बेसन के कन्या एवं बच्चों को बांटे जरूरतमंदों को वस्त्र दान अन्न दान चप्पल जूते छाते का दान करें अत्यंत आवश्यक है स्थान पर एकांत स्थान पर बैठकर जाप करें हवन करें हवन के लिए घीऔर गुड़ का हवन करें समिधा में अकौना की लकड़ी जिसे मदार कहा जाता है उसके ऊपर ही हवन करें ग्रहण समाप्ति के बाद जो वस्त्र मैं आपने जाप किया है उसे अगर आप दान में देते हैं तो अति उत्तम होगा ग्रहण की समाप्ति के के बाद पूरे घर में नर्मदा जल गंगाजल डाले एवं मूर्ति को स्नान कराएं एवं पीली वस्तुओं का पीले अनाजों का जरूरतमंद को देवे पशु पक्षी मछलियों दाने डालें ओम नमः शिवाय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here