क्या है संगठन … विजय गुप्ता

       एक आदमी था, जो हमेशा अपने संगठन में सक्रिय रहता था,  उसको सभी जानते थे, बड़ा मान सम्मान मिलता था; अचानक किसी कारण वश वह निष्क्रीय रहने लगा, मिलना – जुलना बंद कर दिया और संगठन से दूर हो गया।

       कुछ सप्ताह पश्चात् एक बहुत ही ठंडी रात में उस संगठन के प्रमुख ब्यक्ति ने उससे मिलने का फैसला किया । संगठन प्रमुख उस आदमी के घर गया और पाया कि आदमी घर पर अकेला ही था। एक अंगीठी  में जलती हुई लकड़ियों की लौ के सामने बैठा आराम से आग ताप रहा था। उस आदमी ने आगंतुक प्रमुख का बड़ी खामोशी से स्वागत किया।

        दोनों चुपचाप बैठे रहे। केवल आग की लपटों को ऊपर तक उठते हुए ही देखते रहे। कुछ देर के बाद प्रमुख ने बिना कुछ बोले, उन अंगारों में से एक लकड़ी जिसमें लौ उठ रही थी (जल रही थी) उसे उठाकर किनारे पर रख दिया। और फिर से शांत बैठ गया।

      मेजबान हर चीज़ पर ध्यान दे रहा था। लंबे समय से अकेला होने के कारण मन ही मन आनंदित भी हो रहा था कि वह आज अपने संगठन के प्रमुख के साथ है। लेकिन उसने देखा कि अलग की हुई लकड़ी की आग की लौ/ज्योति  धीरे- धीरे कम हो रही है। कुछ देर में आग बिल्कुल बुझ गई। उसमें कोई ताप नहीं बचा। उस लकड़ी से आग की चमक जल्द ही बाहर निकल गई।

          कुछ समय पूर्व जो उस लकड़ी में उज्ज्वल प्रकाश था और आग की तपन थी वह अब एक काले और मृत टुकड़े से ज्यादा कुछ शेष न था।

          इस बीच.. दोनों मित्रों ने एक दूसरे का बहुत ही संक्षिप्त अभिवादन किया, कम से कम शब्द बोले। जाने  से पहले मुखिया ने अलग की हुई  बेकार लकड़ी को उठाया और फिर से आग के बीच में रख दिया। वह लकड़ी फिर से सुलग कर लौ/ज्योति  बनकर जलने लगी और चारों ओर रोशनी तथा ताप बिखेरने लगी।

         जब आदमी, मुखिया को छोड़ने के लिए दरवाजे तक पहुंचा तो उसने मुखिया से कहा मेरे घर आकर मुलाकात करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद ।

आज आपने बिना कुछ बात किए ही एक सुंदर पाठ पढ़ाया है कि अकेले व्यक्ति का कोई अस्तित्व नहीं होता, संगठन का साथ मिलने पर ही वह चमकता है और रोशनी बिखेरता है ; संगठन से अलग होते ही वह लकड़ी की भाँति बुझ जाता है।

        संगठन  ही हमारी पहचान बनती है,हमारी मूल शक्ति है, इसलिए संगठन हमारे लिए सर्वोपरि होना चाहिए ।

 संगठन के प्रति हमारी निष्ठा और समर्पण किसी व्यक्ति के लिए नहीं, उससे जुड़े विचार के प्रति होनी चाहिए ।

         संगठन किसी भी प्रकार का हो सकता है , पारिवारिक, सामाजिक, व्यापारिक (शैक्षणिक संस्थान, औद्योगिक संस्थान )  सांस्कृतिक इकाई, सेवा संस्थान आदि।

 संगठनों घर परिवार के बिना मानव जीवन अधूरा है, अतः हर क्षेत्र में जहाँ भी रहें, संगठित रहे एकता से रहे .

विजय गुप्ता , प्रतिष्ठित व्यापारी , मंडला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here