मलेरिया, डेंगू एवं चिकुनगुनिया से बचाव के लिए जानकारी व अपील

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. श्रीनाथ सिंह ने आमजन से अपील कि है कि मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों से बचाव के लिए मच्छरों की वृद्धि रोकने के लिये अपने घर व आसपास पानी इकटठा नहीं होने दें। पात्रों में भरा पानी सप्ताह में एक बार अवश्य खाली करें। मच्छरों से बचाव करें। सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें। पूरी आस्तीन के कपड़े पहनें। मच्छर भगाने वाले साधन जैसे- क्रीम, क्वाइल, रिपेलेन्ट इत्यादि का उपयोग करें। टायर, कबाड़ सामान ढंक कर रखें इनमें पानी इकट्ठा नहीं होने दें। बुखार आने पर तत्काल स्वास्थ्य केन्द्र में जांच करायें। उन्होंने कहा कि वर्षाकाल में जगह-जगह पानी इकट्ठा हो जाता है तथा हमारे घर व आस-पास पानी कन्टेनर व कबाड़ सामान, टायर, टंकी, मटके, गमले, कूलर इत्यादि में जमा पानी में मच्छर अंडे देकर वृद्धि करते हैं। जिनके काटने से मलेरिया डेंगू चिकुनगुनिया बीमारी फेलने की संभावना होती है। अतः ऐसे जलपात्रों में भरा पानी सप्ताह में एक बार अवश्य खाली करें जिससे इनमें पनप रहे मच्छर के लार्वा नष्ट हो जाते हैं व मच्छरों की वृद्धि रुक जाती है। मच्छर से फैलने वाले मलेरिया में सामान्यतः बुखार, कमजोरी हाथ पैर में दर्द, उल्टी आना जैसे लक्षण हो सकते हैं तथा डेंगू, चिकुनगुनिया बीमारी संक्रमित व्यक्ति में सामान्यतः बुखार सिर व आंखों में दर्द, हाथ पैर में दर्द, उल्टी आना, शरीर पर चकत्ते आना जैसे लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में मरीज को तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में निःशुल्क खून जांच व स्वास्थ्य परीक्षण कराना चाहिए। तथा चिकित्सकीय परामर्श से दवा का पूर्ण सेवन करना चाहिये। डेंगू व चिकुनगुनिया की जांच जिला चिकित्सालय मण्डला में उपलब्ध है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वारथ्य अधिकारी डॉ. श्रीनाथ सिंह के निर्देशानुसार वर्षाकाल के दौरान मच्छरों से फलने वाली वाहक जनित बीमारी मलेरिया डेंगू चिकुनगुनिया से बचाव के लिये फील्ड में कार्यरत अमला ग्राम में लार्वा सर्वे व बुखार के रोगियों की जांच कर रहे है तथा वाहक जनित रोग- मलेरिया, डेंगू चिकुनगुनिया से बचाव व रोकथाम के लिए लोगों को जानकारी देकर प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। जनजागरुकता व सहयोग से मच्छर जनित बीमारी से बचाव संभव है।

’’मलेरिया निरोधक माह के मद्देनजर प्रथम चक्र कीटनाशक छिड़काव की सूचना’’

जिला मलेरिया अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार वाहक जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जिले के मलेरिया प्रभावित हाई रिस्क 10 चयनित ग्रामों विकासखण्ड नैनपुर के ग्राम भड़िया, अमझर रैयत, बिछिया के हर्राभाटमाल नारायणगंज के कोंडरा, सिघनपुरी, भालीवाड़ा, बीजाडांडी के मुइयानाला, पौंड़ी रैयत, देहना, निवास के करौंदी में कीटनाशक छिड़काव कार्य दो चक्रों में संपन्न किया जायेगा। प्रथम चक्र कीटनाशक छिड़काव 16 जून 2021 से प्रारंभ हो चुका है जो 18 जून 2021 तक ब्लाक बिछिया के ग्राम हर्राभाट माल में कीटनाशक छिड़काव कार्य किया जा रहा है। जिला मलेरिया अधिकारी रामशंकर साहू एवं जिला टीम द्वारा ग्राम हर्राभाट माल में छिड़काव कार्य का निरीक्षण किया गया एवं आवश्यक निर्देश दिये गये। ग्रामवासियों से अपील की गई है कि अपने घरों के समस्त कमरों में छिड़काव कार्य कराकर वाहक जनित रोंगों के नियंत्रण में महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here