रिटायर्ड डॉक्टर से 33 लाख की सायबर ठगी

प्रदेश की सायबर देल में की थी शिकायत , अभी तक दर्ज नहीं हुयी एफआईआर

सेवानिवृत जिला स्वास्थ्य अधिकारी से 33 लाख से ज्यादा की सायबर ठगी का मामला सामने आया है। पीडि़त के एसबीआई बचत खाते से केवाईसी अपडेट करने पर ओटीपी लेकर रूपये पार किये है। इसकी शिकायत मंडला और राज्य सायबर सेल को दी गई है। लेकिन पिछले एक माह से जांच चल रही रही अभी तक एफआईआर दर्ज नही हुई है। जिससे पीडि़त मानसिक रूप से परेशान है। सेवानिवृत जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ जीएस कोरी ने बताया है कि 6 अगस्त को मोबाइल पर मैसिज आया है कि केवाइसी अपडेट कराये। इस फ्राड मैजिस में एक टोलफ्री नम्बर भी था, जिसके चलते डॉक्टर ने केवायसी अपडेट कराने की प्रोसेस जानने के लिए संपर्क किया और प्रोसेस पूछा। इसके बाद सायबर सायबर ठग कॉल कर बताया कि कि बैंक में कोरोना की वजह से केवायसी अपडेट होने का कार्य नही हो रहा है। डॉक्टर ने बैंक मैनेजर समझकर सायबर ठग को केवायसी अपडेट करने के लिए ओटीपी दे दिया। जिसके बाद डॉक्टर के बचत खाते से 33 लाख 61 हजार 354 रूपये आहरित कर लिये गये है।

इस तरह ठगी की लगी जानकारी
12 अगस्त को फिर डॉक्टर के पास सायबर ठग का कॉल आया कि दूसरा खाता होल्ड है। बैंक में संपर्क कर होल्ड से अलग कराये। जिसके बाद डॉक्टर कोरी बैंक पहुंचे। यहां उन्होंने बैंक कर्मियों से खाता होल्ड होने पर चर्चा की। बैंक कर्मचारी ने खाते का बैंलेस पूछा। जिसके बाद बैंलेस चेक किया। जिसमें पता चला कि खाते में सिर्फ 2 हजार है। बैंक कर्मी समझ गये कि डॉक्टर के साथ फ्राड हो गया है। उन्होंने डॉक्टर के परिजनों से संपर्क कर इसकी जानकारी दी।

109 बार किया आहरण
6 अगस्त से लेकर 10 अगस्त के बीच डॉक्टर के बचत खाते से 109 बार राशि आहरित की गई है। इसमेें पहली बार 2 लाख से ज्यादा राशि निकाली गई। पांच दिनों में डॉक्टर के खाते से 33 लाख रूपये से ज्यादा राशि आहरित कर ली गई। लेकिन डॉक्टर को इसकी जानकारी नहीं लग पाई। बैंक में भी इतने सारे आहरण होने पर भी खाते को ब्लाक नही किया और नाही खातें धारक से संपर्क किया। बैंक में 109 आहरण के बाद भी कोई संदेश नही हुआ है।

एक माह में नही हुई एफआईआर
बचत खाते से जीवन भर की पूंजी गवां चुके डॉक्टर को मदद नहीं मिल रही है। अभी तक इस मामले में एक माह बाद भी एफआईआर नही हुई है। महाराजपुर थाना में शिकायत करने के बाद उन्हें बताया गया है कि 2 लाख से ज्यादा की सायबर ठगी पर राज्य सायबर पुलिस जबलपुर में शिकायत करनी पड़ेगी। राज्य सायबर पुलिस को आवेदन दिया गया है। बैंक पीडि़त डॉक्टर से बैंक खाते की पूरी डिलेट देने के लिए एफआईआर की कापी मांग रहा है। इस स्थिति में पीडि़त मानसिक रूप से परेशान हो रहे है।

इनका कहना है :
सायबर ठगी के मामले में बैंक मदद कर रही है। नियम के तहत 50 हजार के ज्यादा के आहरण मामले में बैंक डिटेल के लिए एफआईआर की कापी लगेगी। इसके लिए ग्राहक से संपर्क कर जानकारी मांग रहे है।
हेमपुष्प, बैंक मैनेजर, एसबीआई, मेन ब्रांच मंडला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here