जिले की रैंकिंग को सुधारने प्रतिदिन करें शिकायतों का निराकरण – हर्षिका सिंह

कलेक्टर ने समय-सीमा बैठक में दिए निर्देश

कलेक्टर हर्षिका सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक ली। बैठक में उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी सीएम हेल्पलाईन में प्राप्त शिकायतों का प्रतिदिन निराकरण करें। उन्होंने कहा कि जिले की रैकिंग को और बेहतर बनाने के लिए सभी विभागों का सतत समन्वय आवश्यक है। कलेक्टर ने कहा कि प्राप्त शिकायतों को अटेंड करते हुए संतुष्टिपूर्ण शिकायतों के निराकरण को प्राथमिकता में रखें। उन्होंने शिकायतकर्ता से बात कर उनकी समस्या को गंभीरता से सुनते हुए सकारात्मक कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी विभागों को निर्देशित किया कि शिकायतों का संतुष्टिपूर्ण निराकरण आवश्यक रूप से करें। बैठक में अपर कलेक्टर मीना मसराम, जिला पंचायत सीईओ रानी बाटड़ तथा संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

श्रीमती सिंह ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि एल-1 तथा एल-2 स्तर पर ही शिकायतों को निराकृत करें। उन्होंने राजस्व, ग्रामीण विकास, खाद्य, ऊर्जा, वन विभाग, पीएचई सहित सभी विभागों को शिकायतों के निराकरण में तेजी लाने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि प्राप्त शिकायतों को अनिवार्य रूप से अटेंड करें। बिना अटेंड की हुई शिकायतों के अगले स्तर पर बढ़ने पर संबंधित अधिकारी के विरूद्ध वेतन कटौती की कार्यवाही होगी। कलेक्टर ने 100 दिवस तथा 300 दिवस से अधिक की लम्बित शिकायतों से संबंधित जिलाधिकारियों से जवाब मांगे तथा निराकरण के लिए की गई कार्यवाही की जानकारी ली।

28 अधिकारियों का एक दिन का वेतन कटा

               कलेक्टर ने सीएम हेल्पलाईन में एल-1 स्तर पर बिना अटेंड की गई शिकायतें अगले स्तर पर जाने के चलते सख्त नाराजगी जाहिर की। उन्होंने 28 विभागों के अधिकारियों पर इस संबंध में कार्यवाही करते हुए सभी का एक दिन का वेतन काटने के आदेश दिए। श्रीमती सिंह ने सभी अधिकारियों को चेतावनी दी कि आगामी माह में उक्त प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर संबंधितों का एक सप्ताह का वेतन काटा जाएगा।

               कलेक्टर ने जिले में उपार्जन की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि परिवहन कार्य का लगातार बढ़ाएं। उन्होंने किसानों के भुगतान की जानकारी लेते हुए कहा कि भुगतान की कार्यवाही प्राथमिकता से पूर्ण करें। श्रीमती सिंह ने स्वच्छ भारत मिशन की समीक्षा करते हुए शहरी तथा ग्रामीण स्तर पर स्वच्छता रैकिंग को बेहतर करने जरूरी निर्देश दिए। उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देशित किया कि अपने क्षेत्रों में स्वच्छता रैकिंग को बेहतर करने बैठकें आयोजित करें तथा जनजागरूकता कार्यक्रम संचालित करें। उन्होंने पीओ डूडा को निर्देशित किया कि नगरीय निकायों में भी स्वच्छता सर्वे का कार्य प्रभावी रूप से पूर्ण करें। श्रीमती सिंह ने एसी ट्राईबल को कान्हा गेट के पास स्थित बिल्डिंग में कल्चरल हब विकसित करने के निर्देश दिए। उन्होंने जिले में आयुष विभाग, एमएमयू तथा आरआरटी की जानकारी लेते हुए जरूरी निर्देश दिए।

               श्रीमती सिंह ने सीएमएचओ को निर्देशित किया कि जननी सुरक्षा योजना के तहत भुगतान सुनिश्चित करें। उन्होंने ईईपीएचई को निर्देशित किया कि घुघरी क्षेत्र के अंतर्गत पानी की समस्या का निराकरण सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने सामाजिक न्याय विभाग की समीक्षा करते हुए एलिम्को कैम्प पुनः आयोजित करने के निर्देश दिए। उन्होंने पशुपालन तथा मत्स्य विभाग को किसान क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए कैम्प आयोजित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवाएं को जिले में पशु क्षति के संबंध में सकारात्मक कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मत्स्य विभाग प्रति बुधवार को केसीसी बनाने के लिए संबंधित विभागों के साथ कैम्प आयोजित करें। कलेक्टर ने एसी ट्राईबल को निर्देशित किया कि 500 बैगा परिवारों को चिन्हित करते हुए उन्हें कड़कनाथ इकाई की स्थापना से संबंधित लाभ प्रदान करने पशुपालन विभाग के साथ समन्वय करें।

कलेक्टर ने बैठक में कहा कि राजस्व अधिकारी नए गिरदावरी सत्यापन का कार्य जल्द खत्म करें। उन्होंने स्वरोजगार के लक्ष्य की समीक्षा करते हुए 25 फरवरी को स्वरोजगार मेले के आयोजन के लिए संबंधितों को निर्देश दिए। उन्होंने आबकारी, परिवहन, पंजीकरण, आजीविका तथा संबंधित विभागों से दिए गए लक्ष्य तथा उसके विरूद्ध प्राप्त की गई उपलब्धि की जानकारी ली। श्रीमती सिंह ने जिला पंचायत सीईओ को पंचायती राज विभाग से संबंधित शिकायतों के निराकरण के लिए कैम्प आयोजित करने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास, मनरेगा तथा अन्य विषयों की बिन्दुवार समीक्षा की। श्रीमती सिंह ने डीपीसी को निर्देशित किया कि मोहल्ला क्लासेस आयोजित करें तथा अधिक से अधिक बच्चों को इसका लाभ दें।

चिटफंड कंपनियों से संबंधित शिकायत करें

               श्रीमती सिंह ने जिलेवासियों से अपील की है कि ऐसे किसी भी व्यक्ति के साथ चिटफंड कंपनियों के द्वारा धोखाधड़ी हुई है तो ऐसे व्यक्ति कलेक्ट्रेट या संबंधित क्षेत्र के एसडीएम कार्यालय में अपना आवेदन दे सकते हैं। कलेक्टर ने सभी एसडीएम को निर्देशित किया कि सभी चिटफंड कंपनियों पर नजर रखें तथा शिकायत प्राप्त होने पर तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित करें। बैठक में श्रीमती सिंह ने जिलेवासियों से यह भी अपील की है कि उनके क्षेत्र में मिलावट से संबंधित शिकायत होने पर कलेक्ट्रेट सहित अन्य स्थानों पर आवेदन दे सकते हैं।

शतप्रतिशत वैक्सीनेशन कर सर्टिफिकेट दें

               कलेक्टर ने स्वास्थ्य, पुलिस, राजस्व, महिला बाल विकास विभाग तथा संबंधितों को निर्देशित किया कि प्रीकोशन डोज सहित पात्र वर्गों का शतप्रतिशत वैक्सीनेशन सुनिश्चित कर सर्टिफिकेट देंगे। उन्होंने कहा कि नगरीय निकाय के अंतर्गत भी शतप्रतिशत वैक्सीनेशन का कार्य पूर्ण कर सर्टिफिकेट दें।

आंगनवाड़ी केन्द्रों को गोद लेने आगे आएं

               श्रीमती सिंह ने सभी जिलाधिकारियों सहित जिलेवासियों को भी एडोप्ट एन आंगनवाड़ी कार्यक्रम के तहत अपने क्षेत्र की कम से कम एक आंगनवाड़ी केन्द्र को गोद लेने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि जिला प्रशासन के अधिकारी कर्मचारियों के साथ-साथ जिलेवासी भी स्वेच्छा से एक आंगनवाड़ी केन्द्र गोद लेने आगे आएं। गोद ली जाने वाली आंगनवाड़ी केन्द्रों में जरूरी सुविधाएं सहित अन्य यथासंभव सहयोग करें। कलेक्टर ने जनप्रतिनिधियों से भी आग्रह किया है कि इस कार्यक्रम के तहत आंगनवाड़ी केन्द्रों को गोद लेते हुए उनमें भौतिक सुविधाओं सहित बच्चों के कुपोषण को दूर करने प्रभावी सहयोग करें। उन्होंने कहा है कि 26 जनवरी को प्रति वर्षानुसार इस वर्ष भी गांव की सर्वाधिक साक्षर महिला ध्वजारोहण करेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here