Home Blog

आईटीआई की कोई भी सीट खाली न रहे – कलेक्टर श्रीमती चौहान

जिला कौशल विकास समिति की बैठक में विभागीय अधिकारियों को दिए निर्देश

आईटीआई से प्रशिक्षण प्राप्त विद्यार्थियों को फॉलोअप कर रोजगार से जोड़ने पर दिया जोर

आईटीआई (औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान) में मौजूदा शिक्षण सत्र में कोई भी सीट खाली नहीं रहनी चाहिए। इसके लिए विशेष प्रयास किए जाएँ। साथ ही स्कूल शिक्षा, आदिम जाति कल्याण एवं महिला-बाल विकास विभाग के अधिकारी इस कार्य में सहयोग करें। इस आशय के निर्देश कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने जिला कौशल विकास समिति की बैठक में आईटीआई के प्राचार्य एवं संबंधित विभागों के अधिकारियों को दिए। उन्होंने आईटीआई पाठ्यक्रमों में महिला प्रशिक्षणार्थियों की संख्या बढ़ाने पर विशेष बल दिया। बैठक में जानकारी दी गई कि आईटीआई पाठ्यक्रमों में प्रवेश की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। आठवीं व दसवीं कक्षा उत्तीर्ण विद्यार्थियों को आईटीआई में प्रवेश दिया जाता है।

बुधवार को कलेक्ट्रेट के सभागार में आयोजित हुई बैठक में कलेक्टर श्रीमती चौहान ने कहा कि आईटीआई पाठ्यक्रमों का प्रशिक्षण ले चुके विद्यार्थियों का पाँच साल तक फॉलोअप अवश्य करें। आईटीआई प्रमाण-पत्रधारी विद्यार्थियों को विभिन्न कंपनियों में प्लेसमेंट और बैंकों के माध्यम से उद्यम स्थापित करने के लिये मदद दिलाएँ। उन्होंने सहायक आयुक्त जनजाति कल्याण विभाग को निर्देश दिए कि विभागीय छात्रावासों में रहकर पढ़ाई कर रहे बच्चों को आईटीआई के रोजगारमूलक पाठ्यक्रमों की जानकारी दी जाए, जिससे वे आईटीआई में प्रवेश ले सकें। आंगनबाड़ियों से जुड़ी महिलाओं के कौशल उन्नयन में वृद्धि के लिए उन्हें आईटीआई के माध्यम से प्रशिक्षित कराने के लिये भी उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया।

बैठक में संभागीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य श्री एम के आर्य, जनजाति कल्याण विभाग के प्रभारी सहायक आयुक्त एवं एसडीएम लश्कर नरेन्द्र बाबू यादव, सहायक संचालक महिला-बाल विकास राहुल पाठक, आईटीआई के टीपीओ भूपेन्द्र कुमार तथा उद्यमिता प्रभारी सुश्री प्रांजल पाठक सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

आईटीआई पास विद्यार्थियों को पॉलीटेक्निक में सीधे द्वितीय वर्ष में प्रवेश

संभागीय आईटीआई के प्राचार्य एम के आर्य ने बैठक में जानकारी दी कि आईटीआई पास विद्यार्थियों को पॉलीटेक्निक डिप्लोमा करने के लिये लेटरल एंट्री के तहत सीधे द्वितीय वर्ष में प्रवेश देने का प्रावधान है। आईटीआई प्रशिक्षणार्थी इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। इसी तरह आईटीआई उत्तीर्ण करने के बाद प्रशिक्षणार्थी हिंदी एवं अंग्रेजी विषयों कें पेपर ओपन बोर्ड के माध्यम से देकर 12वीं के समकक्ष मान्य किए जाते हैं।

स्व. तुलसाबाई के निधन पर संभाग आयुक्त कार्यालय में अधिकारी-कर्मचारियों ने दी श्रृद्धांजलि

संभाग आयुक्त डॉ. सुदाम खाड़े की माताजी स्व. तुलसाबाई के निधन पर संभाग आयुक्त कार्यालय में बुधवार को श्रृद्धांजलि सभा आयोजित की गई। अपर आयुक्त छोटे सिंह सहित संभाग आयुक्त कार्यालय में पदस्थ सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने स्व. तुलसाबाई को श्रद्धांजलि अर्पित की।

स्ट्रांग रूम की सुरक्षा व्यवस्थाओं की 24 घंटे निगरानी (जिला विदिशा)

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी बुद्धेश कुमार वैद्य के निर्देशानुसार विदिशा के जाफरखेड़ी स्थित शासकीय आदर्श महाविद्यालय में स्थापित किए गए स्ट्रांग रूम की सुरक्षा व्यवस्थाओं की 24 घंटे निगरानी की जा रही है इसके लिए एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के साथ-साथ एक राजपत्रित अधिकारी के द्वारा भी निगरानी की जा रही है।

     जाफरखेड़ी स्थित शासकीय आदर्श महाविद्यालय में स्थापित स्ट्रांग रूम की प्रति दिवस 24 घंटे निगरानी हेतु 20 मई 2024 तक के लिए तीन शिफ्टों में राजपत्रित अधिकारियों को तैनात किया गया है। जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र विदिशा के प्रबंधक श्री अंकित कुमार सिंह को प्रातः 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक पशुपालन एवं डेयरी विभाग विदिशा के उपसंचालक डॉ दीपक सक्सेना को दोपहर 3 बजे से रात्रि 11 बजे तक एवं जिला आयुष कार्यालय विदिशा के आयुष चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर चेतन कुमार टिक्कस को रात्रि 11 बजे से प्रातः 7 बजे तक के लिए तैनात किया गया है।

   इसी प्रकार 21 मई से 3 जून तक के लिए चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर टीकाराम शर्मा को प्रातः 7 बजे से 3 बजे तक, सहायक प्राध्यापक राम आशीष यादव को दोपहर 3 बजे से रात्रि 11 बजे तक तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारी श्री संजय सिंह को रात्रि 11 बजे से प्रातः 7 बजे तक के लिए तैनात किया गया है।

पीएम जनमन अभियान के कार्यों में तेजी लाएं (जिला विदिशा)

      जिला पंचायत सीईओ डॉ योगेश भरसट ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को पीएम जनमन अभियान अंतर्गत विभिन्न योजनाओं की प्रगति में तेजी लाए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पत्राचार के माध्यम से जिले के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि 30 अप्रैल 2024 की स्थिति में जिले में आधार कार्ड, जनधन बैंक अकाउंट, आयुष्मान भारत, जाति प्रमाण पत्र, किसान क्रेडिट कार्ड, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि एवं राशन कार्ड बनाए जाने की प्रगति अत्यंत धीमी है।

    अतः शासन के निर्देशानुसार इस कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता से लेतै हुए उक्त हितग्राही मूलक योजनाओ में शेष रहे परिवार, सदस्यों को शत प्रतिशत लाभ हेतु कार्यवाही की जाकर प्रति दिवस की प्रगति रिपोर्ट से आदिम जाति कल्याण विभाग की जिला संयोजक को अवगत कराया जाए। आगामी टीएल बैठक में साप्ताहिक प्रगति की समीक्षा योजनावार की जाएगी।

    जिला पंचायत सीईओ डॉक्टर भरसट ने बताया कि विदिशा जिले में पीव्हीटीजी की कुल जनसंख्या 47530 है जिनमें से आधार कार्ड बनाए जाने हेतु 2528 आवेदन शेष लंबित हैं। इसी प्रकार 150 जनधन बैंक अकाउंट, 15425 आयुष्मान भारत, 9731 जाति प्रमाण पत्र, 74 किसान क्रेडिट कार्ड केसीसी, 129 पीएम किसान सम्मान निधि तथा 473 आवेदन राशन कार्ड बनाया जाने हेतु लंबित हैं। उन्होंने संबंधित विभागों का अधिकारियों को शेष लंबित रहे प्रकरणों में शीघ्र अति शीघ्र कार्यवाही करते हुए शत-प्रतिशत सैचुरेशन लाए जाने के निर्देश दिए हैं।

कलेक्टर व सीईओ समर कैंप समापन कार्यक्रम में शामिल हुए (जिला विदिशा)

कलेक्टर बुद्धेश कुमार वैद्य आज विदिशा के बरईपुरा स्थित सीएम राइज विद्यालय में आयोजित समर कैंप के समापन कार्यक्रम में शामिल हुए। कार्यक्रम का शुभारंभ कलेक्टर बुद्धेश कुमार वैद्य, जिला पंचायत सीईओ डॉक्टर योगेश भरसट समेत अन्य अतिथियों के द्वारा मां सरस्वती जी की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलन व माल्यार्पण कर किया गया।

    समर कैंप के समापन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कलेक्टर बुद्धेश कुमार वैद्य ने कहा कि शासकीय विद्यालयों में समर कैंप कार्यक्रम में बच्चों द्वारा जो सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गईं, कबाड़ की जुगाड़ से जिस तरह उन्होंने विभिन्न प्रकार की आकर्षक पेंटिंग बनाई यह वाकई प्रशंसनीय है उन्होंने सभी बच्चों को शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

   जिला पंचायत सीईओ डॉक्टर योगेश भरसट ने विद्यालयीन छात्र-छात्राओं की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम गरीब परिवार से आते थे जब वह देश के सर्वोच्च पद पर पहुंच सकते हैं तो सरकारी स्कूल के छात्र-छात्राएं भी पढ़ लिखकर आगे बढ़ सकते हैं और देश दुनिया में अपना नाम रोशन कर सकते हैं।

   विदिशा जिले के सभी शासकीय विद्यालयों में 1 मई से प्रारंभ हुए समर कैंप कार्यक्रम का समापन आज विदिशा के बरईपुरा स्थित सीएम राइज विद्यालय में हुआ। कार्यक्रम में बच्चों के द्वारा कबाड़ से जुगाड़ कर विभिन्न प्रकार के आकर्षक डिजाइन तैयार किए गए, बाल पेंटिंग, कैनवास पर मधुबनी पेंटिंग इत्यादि बनाई गई। इसके अलावा स्कूल के विद्यार्थियों ने क्लासीकल नृत्य की प्रस्तुति भी दी। बच्चों द्वारा तीन ग्रुपों में क्लासीकल नृत्य की प्रस्तुति दी जिनमें कक्षा 1 से 5 तक के विद्यार्थियों ने पहली प्रस्तुति, कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों ने द्वितीय प्रस्तुति तथा कक्षा 9 से 12वी तक के विद्यार्थियों ने तृतीय प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों व पालकों ने बच्चों द्वारा दी गई सांस्कृतिक प्रस्तुतियों की सराहना की। इसके साथ ही बच्चों द्वारा मटकियों में पौधे लगाकर आकर्षक साज-सजा की गई थी जिसे भी अतिथियों ने खूब सराहा।

     इस अवसर पर कार्यक्रम में जिला शिक्षा अधिकारी आरके ठाकुर, विद्यालय प्राचार्य डॉक्टर दीप्ति शुक्ला समेत अन्य अधिकारी गण पालक गण व स्कूली छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।

कृषि योजनाओं का लाभ लेने हेतु कृषक भाई एमपी किसान पोर्टल पर पंजीयन करायें (जिला विदिशा)

कृषक भाई कृषि विभाग की विभिन्न योजना अंतर्गत बीज, सिंचाई यंत्र एवं आदान सामग्री आदि का लाभ लेने हेतु कृषि विभाग के ऑनलाईन पोर्टल एमपी किसान पर अपने आवेदन का पंजीयन करायें। पंजीयन हेतु बेब ब्राउजर पर kisan.mp.gov.in बेब साईट के माध्यम से स्वंय या नजदीकी एमपी ऑनलाइन पर जाकरआवेदन कर सकते हैं। पंजीयन उपरान्त ही कृषक भाई, कृषि विभाग से संबंधित योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकेगें।

 किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उपसंचालक श्री केएस खपेड़िया ने बताया कि बेब ब्राउजर पर जाकर kisan.mp.gov.in यूआरएल के माध्यम से कृषक भाई स्वंय ही आवेदनध्पंजीयन

निम्नानुसार कर सकते है –

किसान पोर्टल पर जाने के लिये दिये गये यूआरएल kisan.mp.gov.in वेब ब्राउजर पर अंकित करें। कृषि योजना मे पंजीयन करने के लिये कृषि योजना के लिये पंजीयन करे ष् पर क्लिक करें। ष्कृषि योजना के लिये पंजीयन करें ष्लिंक पर क्लिक करने बाद नए टैब मे पंजीयन पेज ओपन हो जाता है। पंजीयन हेतु जरूरी दस्तावेज जो संलग्न होने की जानकारी दी जाती है जैसे कृषक का आधार कार्ड कृषक की समग्र आईडी, कृषक की भूमि से सम्बंधित जानकारी, कृषक का जाति प्रमाण पत्र (यदि आवेदक अनु जनजाति का हो. अनुध्जाति.तो)जानकारी ध्यान पूर्वक पढें और आगे बढ़े बटन पर क्लिक करने के बाद, किसान पंजीयन फार्म प्रदर्शितहो जाता है जहां दो ऑप्शन प्रदर्शित होते है। आधार नंबर द्वारा पंजीयन करें। 2. भू-अभिलेख द्वारा पंजीयन करें। आधार नंबर द्वारा पंजीयन अथवा भू-अभिलेख द्वारा पंजीयन करें आप्शन में से किसी एक ऑप्शन के माध्यम से अपना पंजीयन कर सकते है। अथवा नजदीकी एमपी ऑनलाईन पर जाकर भी अपना पंजीयनध्आवेदन करा सकते हैं। ज्ञात हो कि इस वर्ष कृषि विभाग के ऑनलाईन पोर्टल ष्एमपी किसानष् पर अपने आवेदन का पंजीयन उपरान्त ही कृषि विभाग की योजनाओं का लाभ प्राप्त हो सकेगा।अत कृषक बन्धुओं से अपील की गई है कि ऑनलाईन पोर्टल एमपी किसान पर अपना आवेदन पंजीयन करायें।

नगद इनाम की घोषणा (जिला विदिशा)

पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार शुक्ला ने थाना गंजबासौदा शहर में दर्ज अपराध का फरार आरोपी की सूचना देने अथवा गिरफ्तारी कराने में मदद करने वाले के लिए दो हजार रूपए नगद इनाम देने की घोषणा की है। थाना गंजबासौदा शहर के अपराध क्रमांक 375/2022 के फरार आरोपी पिन्टू यादव ट्रक मालिक निवासी धौलपुर (राजस्थान) तथा प्रसाद ट्रक ड्रायवर फिरोजाबाद (उत्तरप्रदेश) की सूचना देने अथवा गिरफ्तारी में मदद करने वाले के लिए दो हजार रूपए का इनाम घोषित किया गया है सूचना देने वाला व्यक्ति चाहे तो उसका नाम गोपनीय रखा जाएगा।

तीन प्रकरणों में जिला बदर की कार्यवाही (जिला विदिशा)

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री बुद्धेश कुमार वैद्य ने तीन प्रकरणों में जिला बदर के आदेश जारी कर दिए है। पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार शुक्ला के प्रतिवेदन पर जिन तीन प्रकरणों में जिला बदर की कार्यवाही की गई है। उनमें अनावेदक भूरा उर्फ गौरव रघुवंशी पुत्र रामदास, आयु 22 साल निवासी पूरनपुरा चैराहा जिम के सामने थाना सिविल लाइन विदिशा एवं अनावेदक सुदीप पाल पुत्र पप्पू उर्फ मथुराप्रसाद पाल आयु 24 साल निवासी शंकरजी की मढिया के पास पीतलमील थाना सिविल लाइन और अनावेदक विजय दांगी पुत्र रामदास दांगी उम्र 30 साल निवासी इकोदिया थाना गुलाबगंज जिला विदिशा सहित पूर्व उल्लेखितों के विरूद्व मध्यप्रदेश राज्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत जिला बदर की कार्यवाही का आदेश जारी हुआ है। तीनो अनावेदक विदिशा जिला एवं सीमावर्ती जिला रायसेन,  भोपाल,  गुना, अशोेकनगर, सागर, राजगढ़ की राजस्व सीमा से क्रमशः एक-एक वर्ष की कालावधि के लिए उसे निष्कासित किये गए है।

बदलते मौसम में खान-पान का रखें विशेष ध्यान और गर्मियों में रखें अपना ध्यान (जिला राजगढ़)

भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा आमजनों को सलाह दी है कि वे बदलते मौसम में खान-पान का रखें ध्यान ताकि बीमारियां न करें परेशान ताजा और हल्का भोजन ही खाएं, जंक फूड खाने से बचें, पानी अधिक मात्रा में पिएं, फलों का सेवन करें, चाय,  कॉफी, गैस वाले पेय पदार्थों का सेवन नहीं करें, गर्मियों में रखें अपना ध्यान ताकि बीमारियां न करें परेशान, धूप और अधिक तापमान की वजह से होने वाली सामान्य परेशानियां जेसे गर्म लाल और सूखी त्वचा, मतली या उल्टी, तेज सिर दर्द, मांसपेशियों में कमजोरी या ऐठन, सांस फूलना, धड़कन तेज होना, घबराहट, लू से बचें गर्मियों में बाहर घूमने जाएं तो अपना विशेष ध्यान रखें, पीने का पानी, जुस साथ रखें और हाइड्रेटेड रहें, पतले, ढीले सूती वस्त्र पहनें, अपने सिर को छाते/टोपी/तौलिया आदि से ढक लें, ताकि धूप के सीधे संपर्क में आने से बचा जा सके, नंगे पांव बाहर ना निकलें, अपना ध्यान रखें लू से बचें लू लगने के कारण होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है यदि आप या कोई भी अन्य व्यक्ति लू के कारण होने वाले तनाव के लक्षणों का अनुभव करता है, तो तत्काल चिकित्सक से संपर्क करें।

लू लगने के संकेत

       लू लगने के कारण होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है यदि आप या कोई भी अन्य व्यक्ति लू के कारण होने वाले तनाव के लक्षणों का अनुभव करता है तो तत्काल चिकित्सक से संपर्क करना चाहिये। लू लगने के संकेत चक्कर आना, जी मिचलाना, अत्यधिक प्यास लगना, पेशाब कम होना, सिरदर्द, हॉफना और दिल की धड़कन तेज होना आदि लक्षण अना लू लगने के संके होते है।

डिहाइड्रेशन निर्जलीकरण के लक्षण

      डिहाइड्रेशन (निर्जलीकरण) के लक्षण सांस लेने में तकलीफ, होंठ सूखना या खून आना, स्किन ड्राई होना, सिर दर्द, सुस्ती और थकान, एकाग्रता में कमी, कब्ज, सांस में बदबू आना, मांसपेशियों में दर्द, पेशाब कम होना या उसका रंग बदलना,शरीर में पानी की कमी होने पर होती है। यह स्थिति तब पैदा होती है, जब शरीर से निकलने वाले पानी की मात्रा दिनभर में ली जाने वाली पानी की मात्रा से अधिक हो जाती है। व्यक्ति विशेष और शरीर में पानी की मौजूदगी के आधार पर समस्या की गंभीरता कम या ज्यादा हो सकती है।डिहाइड्रेशन (निर्जलीकरण) से बचाव के उपाय तरबूज, खरबूज, संतरा जैसे रसदार फल अधिक मात्रा में खाएं, ORS ओरआरएस का घोल पिएं, नींबू पानी, छाछ, आम पन्ना, नारियल पानी या फ्रेश जूस पिएं, घर से बाहर निकलते वक्त पानी की बोतल साथ में लेकर जाएं, लगातार पानी पीते रहें, चाय-कॉफी गर्म पेय का सेवन करने से बचें यह सावधानियां आवश्यक है।

डेंगू बीमारी से बचाव हेतु जानकारी

            16 मई को राष्ट्रीय डेंगू दिवस के रूप में मनाया जाता है। मानसून सीजन में बीमारियों के फैलने के ज्यादा अवसर होते हैं। जून से इसका प्रकोप धीरे-धीरे बढ़ता जाता है जो वर्ष के अंत से कम होने लगता है। डेंगू बुखार, डेंगू नामक वायरस के कारण होता है जिसके प्रमुख लक्षणों में तेज बुखार, सिरदर्द; त्वचा पर चेचक जैसे लाल चकत्ते तथा मांसपेशियों हड्डियों एवं आंख के पीछे दर्द शामिल है, इनमें से किसी भी लक्षण होने पर तुरंत डॉक्टर व स्वास्थ्यकर्मी से संपर्क करना चाहिए।

            डेंगू एडीज मच्छर के काटने से फैलता है, यह मच्छर काले रंग के साथ शरीर पर सफेद धारी लिए होने से आसानी से पहचाना जा सकता है। यह मच्छर दिन के समय काटता है, जब एक स्वस्थ व्यक्ति को संक्रमित एडीज मच्छर काटता है तो डेंगू होने की संभावना रहती है। एडीज मच्छर साफ व रुके हुए पानी में अंडे देता है। कहीं पर भी पानी जमा न होने दें, साफ पानी को ढक्कर रखें, कूलर, टंकी, होदी, घर के अन्दर रखे गमलों के पानी को हफ्ते में जरूर बदलें। घरों की छत पर रखे अनुपयोगी वस्तुएं जैसे डब्बे, फूलदान, टायर, बर्तन इत्यादि की सफाई करें, उन्हें इस प्रकार रखें कि इनमें पानी जमा ना होने पाये, पानी की टंकियों के ढक्कन लगायें। अपने घरों में मच्छर निरोधक पौधे जैसे- लेमनग्रास, लहसुन, लेवेंडर, गेंदा, तुलसी, सिट्रोनेला इत्यादि लगावें। आवश्यक है कि हम सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें, घरों में मच्छर निरोधक जालियों का उपयोग करें, मच्छर निरोधी क्रीम,  कॉइल तथा रेपेलेंट का उपयोग करें।